ईंधन दर वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस का आंदोलन

पिंपरी. कोरोना के संकट में रोजाना हो रही पेट्रोल- डीजल के दामों में वृद्धि से आम लोगों की कमर टूट गई है. दर वृद्धि के खिलाफ सरकार को नींद से जगाने के लिए कांग्रेस द्वारा सोमवार को राज्यभर में आंदोलन किया गया. इस कड़ी में पार्टी की पिंपरी- चिंचवड़ शहर इकाई की ओर से आकुर्डी स्थित तहसील ऑफिस के सामने प्रदर्शन आंदोलन किया गया.

 यहां पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ रत्नाकर महाजन ने मांग की कि गत छह सालों में लगातार गिरती अर्थव्यवस्था और चीन की घुसपैठ को नजरअंदाज करते हुए गत 22 दिनों से पेट्रोल डीजल के दामों में की गई भारी वृद्धि को वापस लिया जाए. कोरोना का प्रकोप बढ़ने से लागू किये गए लॉकडाऊन से उद्योग, व्यवसाय ठप्प पड़े हैं. 

रोज हो रहा दामों में इजाफा

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रूड ऑयल के दाम घट रहे हैं फिर भी गत 22 दिन से रोजाना पेट्रोल, डीजल के दाम बढ़ाये जा रहे हैं. पेट्रोल में आठ से 10 रुपये व डीजल के दाम में 10 से 12 रुपए प्रति लीटर बढ़े हैं.यूपीए सरकार के समय क्रूड ऑईल के दाम 105 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंचने के बाद भी पेट्रोल के दाम 65 रुपये प्रति लीटर से ज्यादा नहीं होने दिया गया. मगर मोदी सरकार ने डीजल के दाम पेट्रोल से ज्यादा कर दिए हैं. इसकी जितनी निंदा की जाय वह कम है. डॉ. महाजन के नेतृत्व में किये गए इस आंदोलन में पिंपरी-चिंचवड शहर कांग्रेस के शहराध्यक्ष सचिन साठे, पूर्व नगरसेवक राजाभाऊ गोलांडे, सेवा दल के राष्ट्रीय पदाधिकारी संग्राम तावडे, वरिष्ठ नेता शामला सोनवणे, महिला शहराध्यक्षा गिरीजा कुदले, विष्णुपंत नेवाले, हिरामण खवले, किशोर कलसकर, राजेद्रसिंह वालिया, मयुर जयस्वाल, लक्ष्मण रुपनर, शहाबुद्दीन शेख, चंद्रशेखर जाधव, विशाल कसबे, सुनिल राऊत, तुषार पाटील, मुन्सफ खान, वसिम शेख, कुंदन कसबे आदि शामिल हुए.