Congress's cycle tour against troubling inflation, government has no right to be in power - Mohan Joshi

    पुणे. कांग्रेस सरकार (Congress Government) के दौरान, भाजपा नेता (BJP Leaders) नरेंद्र मोदी (Narendra Modi), स्मृति ईरानी (Smriti Irani) और अन्य नेता पेट्रोल और डीजल (Petrol and Diesel) की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ आंदोलन करते हुए कहते थे, “जो सरकारें पेट्रोल और डीजल की कीमतों को नियंत्रित नहीं कर सकती हैं उन्हें सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है”। आज मोदी सरकार मंहगाई के चरम पर पहुंच गई है, इसलिए उन्हें तुरंत महंगाई पर नियंत्रण करना चाहिए, नहीं तो उन्हें सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। मोदी सरकार की उद्योगपति नीति के कारण आज देश बिगड़ रहा है। ऐसा आरोप कांग्रेस उपाध्यक्ष मोहन जोशी ने लगाया।  

     बड़े नेता हुए शामिल

    केंद्र में भाजपा की पथ भ्रष्ट नीति के कारण पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस, खाद्य तेल और अन्य आवश्यक वस्तुओं की महंगाई आसमान छू रही है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर पुणे शहर जिला कांग्रेस कमेटी ने इस घातक मंहगाई के खिलाफ एक सप्ताह का जन आंदोलन आयोजित किया है। इसी के तहत  महंगाई के खिलाफ साइकिल यात्रा का आयोजन किया। जो आज लोगों को परेशान कर रही है। अंबेडकर पुतला से लेकर संभागायुक्त के कार्यालय तक यह मोर्चा निकाला गया। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष बसवराज पाटिल के हाथों साइकिल यात्रा की शुरुआत बाबासाहेब अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर हुई। कांग्रेस अध्यक्ष रमेश बागवे, प्रदेश उपाध्यक्ष मोहन जोशी, पूर्व मंत्री बालासाहेब शिवरकर, अभय छाजेड़, कमल व्यवहारे, संजय बालगुडे, दत्ताबहिरट, अमीर शेख, आबा बागुल, पार्षद रवींद्र धंगेकर, चंदूशेठ कदम, अविनाश बागवे, अजीत दरेकर, मनीष आनंद, रफीक शेख, लता राजगुरु, सुजाता शेट्टी, गोपाल तिवारी, महिला अध्यक्ष सोनाली मारने, युवा अध्यक्ष विशाल मालेके, एनएसयूआई के भूषण रणभरे, सेवादल के प्रकाश पवार और सेल प्रमुख ने भाग लिया।
     
    इस अवसर पर बोलते हुए, महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष बसवराज पाटिल ने कहा, “केंद्र में मोदी सरकार के पिछले सात वर्षों के दौरान नोटबंदी  ने लोगों के लिए जीवन कठिन बना दिया है। हर सामान दिन-ब-दिन महंगा होता जा रहा है। मोदी सरकार ने लोगों को कोई राहत देने की कोशिश नहीं की है। वहीं, टैक्स के रूप में करोड़ों रुपये की लूट हुई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत जहां निचले स्तर पर है, वहीं केंद्र सरकार ने भारी टैक्स लगाकर लोगों को लूटा है। केंद्र सरकार ने डीजल और पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी की है। आज पेट्रोल की कीमत 106 रुपये है, डीजल की कीमत 96 रुपये प्रति लीटर है। रसोई गैस की कीमत 850 रुपये हो गई है। खाद्य तेलों और दालों के दाम भी तेजी से बढ़े हैं। इस महंगाई से आज जनता परेशान है।  मोदी सरकार को इस महंगाई पर तुरंत ध्यान देना चाहिए और आम जनता को राहत देनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं किया गया तो कांग्रेस पार्टी जनता के हित में उग्र आंदोलन शुरू करेगी। 
     

     आम जनता को राहत नहीं मिल रही – बागवे

    अध्यक्ष रमेश बागवे ने कहा, ‘पुणे शहर जिला कांग्रेस कमेटी ने 8 से 16 जुलाई तक महंगाई के खिलाफ जन आंदोलन का आयोजन किया है। युपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें चरम पर होने के बावजूद पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी आई थी। यह आम आदमी के लिए सस्ता था। लेकिन आज मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाकर नया इतिहास रच दिया है। मोदी सरकार के कार्यकाल में आम जनता को कोई राहत नहीं मिली है। उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया है। कोरोना महामारी ने गरीबों को सड़कों पर छोड़ दिया है और मध्यम वर्ग की नौकरियां चली गई है।  ऐसे में गरीबों को महंगाई का सामना करना पड़ रहा है। जनता की समस्याओं को लेकर मोदी सरकार गंभीर नहीं। जनता सबक सिखाए बिना नहीं रुकेगी।  महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष मोहन जोशी ने कहा, “अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आसमान छूती महंगाई के खिलाफ जन आंदोलन का आदेश दिया है।  इसी के तहत आज से महाराष्ट्र में सभी जगहों पर जन आंदोलन का आयोजन किया गया है।