Home Quarantine

    पुणे. ढिलाई देने के बाद हर तरफ भीड़ हो रही है। लोग जिस तरह से घर से बाहर निकल रहे हैं, उसे देख कर जिले से बाहर जाकर लौटनेवाले लोगों को 15 दिन का क्वारंटाइन (Quarantine) अनिवार्य (Mandatory) करने का विचार शुरू है, यह जानकारी उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) ने दी। पुणे में शनिवार को कोरोना की स्थिति की समीक्षा करने के लिए अजीत पवार ने बैठक की। 

    इसमें उन्होंने कहा कि भले ही कोरोना का संक्रमण का प्रमाण कम हुआ है, लेकिन मरीजों की संख्या कम नहीं हुई है। इसलिए इस तरह का निर्णय लेने का विचार शुरू है।

     शनिवार और रविवार बंद रहेगा

    आज की समीक्षा बैठक में कई नए मुद्दे सामने आए। हर हफ्ते शनिवार और रविवार बंद रहेगा, अगले शनिवार और रविवार को परिस्थिति नियंत्रण में आने के बाद फिर से सोचेंगे। कुछ जिलो में बड़े पैमाने पर शनिवार और रविवार को भीड़ हो रही है। लोग ऐसा क्यों कर रहे हैं ये समझ नहीं आ रहा। अगर लोगों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया तो सख्ती बरतनी होगी। ज्यादा लोग बाहर जाते निकलते रहेंगे तो जिले से बाहर जाकर लौटने वाले लोगों को 15 दिन क्वारंटाइन करने का विचार शुरू है।

    लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए

    लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए ऐसा कहते हुए उपमुख्यमंत्री पवार ने कहा कि कई देश में वैस्कीनेशन होने के बाद भी तीसरी लहर आ गई है। पिंपरी चिंचवड में मौत के आंकड़ों को देखा तो 60 प्रतिशत मौत 60 से कम उम्र के लोगों की हुई है। अगले सप्ताह पुणे का रिपोर्ट भी प्रस्तुत करने का आदेश दिया गया है। 43 प्रतिशत लोग किसी बीमारी से पीड़ित नहीं थे। महिला से ज्यादा पुरुष के मौत के प्रमाण हैं। कोवैक्सीन को लेकर विदेश जानेवाले छात्रों की परेशानी पर पवार ने कहा कि वैक्सीन लेनेवाले दूसरे वैक्सीन का डोज नहीं ले सकते हैं, ऐसा विशेषज्ञों का मत है। इसलिए विदेश जाने वाले छात्र दूसरी वैक्सीन नहीं ले सकते। जो लिया है उसे अनुमति मिलने का इंतजार करें। पवार ने कहा कि अगले सप्ताह ओबीसी आरक्षण की बैठक में इस से संबंधित चर्चा करेंगे और नियम का पालन करने के लिए सुझाव देंगे। पर्यटन का लिए शनिवार और रविवार को बाहर जाने के कारण नहीं अन्य दिनों में भी नियमों का पालन करना अनिवार्य है।