पिंपरी-चिंचवड़ में 24 घंटे के भीतर कोरोना के मिले 187 रिकॉर्ड मरीज

पिंपरी. लॉकडाउन के शिथिल करने के बाद से पिंपरी-चिंचवड़ शहर में लगातार बढ़ रही कोरोना के मरीजों की संख्या कम होने का नाम नहीं ले रही है. शहर में कोरोना ग्रस्तों का आंकड़ा 3 हजार छूने जा रहा है. सोमवार को इस महामारी के रिकॉर्ड 187 मरीज मिले हैं.इसमें भाजपा के एक विधायक और उनकी पत्नी के साथ ही दो पुलिस अधिकारियों का भी समावेश है. कोरोना का संक्रमण शुरू होने के बाद से लेकर अब तक एक दिन में इतने ज्यादा मरीज पहली बार मिले हैं.गत सप्ताह पांच दिन पहले तो एक दिन में 171 रिकॉर्ड मरीज मिले थे.

77 मरीज स्वस्थ हुए

आज 187 मरीज मिलने के बाद पिंपरी-चिंचवड़ शहर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2909 हो गया है.आज दो और मरीज की इलाज के दौरान मौत हो गई है. हालांकि आज एक दिन में 77 मरीजों को इलाज के बाद कोरोना टेस्ट की दोनों रिपोर्ट निगेटिव मिलने से उन्हें अस्पताल से घर छोड़ दिया गया है.2909 में से अब तक 1717 मरीज कोरोना मुक्त हुए हैं.जबकि कुल 45 मरीजों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है.इसके अलावा यहां इलाज करा रहे पुणे और आसपास के क्षेत्रों के कुल 28 मरीजों की भी मौत हुई है जबकि 169 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिली है.

 1143 मरीजों का इलाज जारी 

पिंपरी चिंचवड़ मनपा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक, शहर में आज 88 महिलाओं समेत कुल 187 मरीजों की कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है.इसके आज पुणे के बोपोड़ी, खड़की बाजार, सासवड़, चाकण, देहूरोड, अमरावती, बीड, मुंबई, सुपे निवासी 5 महिलाओं समेत 12 मरीजों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव मिली है.उनके समेत कुल 69 गैर पिंपरी-चिंचवड़ वासी मरीजों का यहां के अस्पतालों में इलाज चल रहा है.आज नए से शहर के 77 मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज दिया गया है.वहीं आज भोसरी खंडोबा माल निवासी 51 और लातूर निवासी 36 वर्षीय पुरुषों की इलाज के दौरान मौत हो गई. आज तक मिले कुल 2909 संक्रमितों में से 1717 पिंपरी चिंचवड़वासी और 169 गैर पिंपरी चिंचवड़वासी मरीज कोरोना मुक्त हुए हैं.फिलहाल शहर के अस्पतालों में कुल 1143 मरीजों का इलाज जारी है.वहीं पुणे में पिंपरी-चिंचवड़ के 5 मरीजों का इलाज जारी है.

बरसात के मौसम में फ्लू बढ़ने की संभावना 

स्वास्थ्य विभाग की ओर से लोगों को सूचित किया गया है कि बरसात के मौसम में फ्लू बढ़ने की संभावना है.ऐसे में जुकाम, खांसी, बुखार के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं.पूरी तरह से ठीक होने तक बाहर न निकलें.मास्क का इस्तेमाल अनिवार्यतः करें.बरसात में मास्क भीगने की संभावना है, ऐसे में पास में अतिरिक्त मास्क रखें, यह अपील भी की गई है.