कंट्रोल में कोरोना, कम हो रही एक्टिव केसों की संख्या

पुणे. शहर में कोरोना का प्रकोप जारी है. जहां पर घनी बस्तियां हैं, वहां कोरोना संक्रमितों की तादाद बढ़ती जा रही है. अब तक 4 हजार से अधिक लोगों की मौत कोरोना की वजह से हुई है. मनपा  प्रशासन की मानें तो शहर में अब तक तक के आकड़ों के अनुसार मृत्यु दर 2.51% है. उल्लेखनीय है कि 15 दिन पहले यही मृत्यु दर थी, तो रिकवरी रेट 90% से अधिक है. लगभग 1 लाख 45 हजार से अधिक लोगों को डिस्चार्ज दिया गया है. जबकि एक्टिव केसेस की तादाद 8601 हो गई है, जो पहले 16 हजार से अधिक हो गई थी. ऐसी जानकारी मनपा प्रशासन द्वारा दी गई. विगत 15 दिनों से एक्टिव केसेस में कमी आ रही है. यह राहत देने वाली बात मानी जा रही है.

कोरोना संक्रमितों की कम होती जा रही है संख्या

ज्ञात हो कि शहर में कोरोना का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है. लेकिन उसमें सुधार आता हुआ दिख रहा है. कोरोना से मरनेवालों की संख्या 4 हजार से अधिक हो चुकी हैं. विगत 15 दिन पहले तक संक्रमितों की तादाद तेजी से बढ़ती जा रही थी. प्रति दिन 1800 लोग संक्रमित पाए जाते थे. लेकिन अब यह संख्या 500 से भी कम हुई है. महापालिका प्रशासन की ओर से संक्रमित लोगों को ठीक करने के लिए कई सारे प्रयास किए जा रहे है. लेकिन घनी बस्तियां व झोपड़ी इलाकों में इसका प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है. संक्रमित लोगों को क्वारंटाइन करने एवं उनपर उपचार करने के लिए महापालिका प्रशासन द्वारा क्वारंटाइन कक्ष, कोविड सेंटर, फ्लू सेंटर बनाए हैं. उसमें नागरिकों को भोजन समेत सभी तरह की सुविधा दी जा रही है.

एक्टिव केसेस के अनुपात में डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा

महापालिका प्रशासन की मानो तो अब तक के आकड़ेवारी के अनुसार मृत्यु दर 2.51%है. उल्लेखनीय है कि 15 दिन पहले यही मृत्यु दर था. अब तक 4 हजार से अधिक लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी हैं. तो रिकवरी रेट 90% से अधिक है. अब तक लगभग 1 लाख 45 हजार से अधिक लोगों को डिस्चार्ज दिया गया है, तो एक्टिव केसेस की तादाद 8601 है. यानी रिकवर किए हुआ संक्रमितों की तादाद ज्यादा हैं. 15. दिन पहले एक्टिव केसेस की तादाद 16 हजार से अधिक हो गई थी. ऐसी जानकारी मनपा प्रशासन द्वारा दी गई. विगत 15 दिनों से एक्टिव केसेस में कमी आ रही है. यह राहत देनेवाली बात मानी जा रही है.