Surgical Gloves
File Photo

    पिंपरी. कोरोना के इलाज में उपयुक्त रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) की कालाबाजारी (Black Marketing) के खिलाफ लगातार जारी कार्रवाई की कड़ी में पुणे पुलिस (Pune Police) ने पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) की एक नगरसेविका (Corporator) के पुत्र (Son) को गिरफ्तार (Arrest) किया है। पुणे पुलिस ने तीन अलग-अलग कार्रवाई में पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इन कार्रवाईयों में छह रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किए गए हैं। इस बारे में खडकी, अलंकार और डेक्कन पुलिस थानों में मामले दर्ज किए गए हैं।  इसमें से खड़की पुलिस में दर्ज मामले में पिंपरी-चिंचवड़ मनपा की भाजपा समर्थित निर्दलीय मोर्चा की एक नगरसेविका का पुत्र भी गिरफ्तार किया गया है।

    खडकी पुलिस थाने में दर्ज मामले में शुभम नवनाथ आरवडे (22) और वैभव अंकुश मलेकर (20) नामक आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। उनके पास से दो रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किए गए हैं। इनमें शामिल वैभव मलेकर पिंपरी-चिंचवड मनपा की नगरसेविका साधना मलेकर का पुत्र है। वह चिखली प्रभाग से निर्दलीय नगरसेविका चुनी गई हैं। उनके समावेश वाले निर्दलीय नगरसेवकों के मोर्चे ने मनपा के सत्तादल भाजपा को समर्थन दिया है। रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले में नगरसेविका के पुत्र की गिरफ्तारी से शहर के सियासी गलियारों में खलबली मच गई है। 

    बेच रहे थे रेमडेसिविर इंजेक्शन

    बहरहाल पुणे पुलिस की अलग-अलग कार्रवाई में डेक्कन पुलिस ने  राहुल सुनील खाडे (22) और विजय दिनकर पाटील (31) को गिरफ्तार कर उनके पास से तीनरेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किए गए हैं। अलंकार पुलिस ने विष्णु रामराव गोपालघरे (34) को गिरफ्तार उसके पास से एक रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किया है। इन आरोपियों ने गैरकानूनी तरीके से रेमडेसिविर इंजेक्शन प्राप्त किया था और इसे अपने कब्जे में रखा था। वे इन इंजेक्शनों को अपने वित्तीय लाभ के लिए अपने कानूनी मूल्य से अधिक अवैध रूप से बेचने जा रहे थे। साथ ही डॉक्टर के पर्चे के बिना इन इंजेक्शनों को बेचने जा रहे थे।