Corona death
File

    पिंपरी. कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। पिंपरी-चिंचवड़ (Pimpri-Chinchwad) में इसके संक्रमितों और मौतों (Deaths) की संख्या निरंतर बढ़ रही है। हालांकि पिंपरी-चिंचवड़ मनपा द्वारा कोरोना से होनेवाली मौतों के जारी किए जा आंकड़े और परोक्ष में हो रही मौतों में भारी अंतर नजर आ रहा है। सत्तादल भाजपा की वरिष्ठ नगरसेविका सीमा सावले (Corporator Seema Savale) ने यह चौंकाने वाला खुलासा किया है। मनपा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, 1 से 23 अप्रैल के बीच शहर में कोरोना से 935 मौतें हुई हैं, जबकि परोक्ष श्मशान भूमियों में कोरोना से मृतकों की अंत्येष्टि का आंकड़ा 1812 है। नगरसेविका सावले ने आरोप लगाते हुए शिकायत की है कि मनपा द्वारा 877 मौतों की जानकारी छिपाने की कोशिश की है।

    मृत कोरोना के मरीजों के शव उनके परिजनों को नहीं सौंपे जा रहे हैं। मनपा की ओर से ऐसे सभी शवों का मुफ्त में अंतिम संस्कार किया जाता है। प्रारंभ में विद्युत दाहिनी में ही कोरोना लाशों का अंतिम संस्कार किया गया था। फिर दिन-प्रतिदिन मरने वालों की संख्या बढ़ने लगी। इंतज़ार लंबा होता जा रहा था क्योंकि एक लाश के लिए कम से कम डेढ़ से दो घंटे लगते थे। नतीजतन, रिश्तेदारों ने भी विवाद और झगड़ा करना शुरू कर दिया। अंत में मनपा कमिश्नर की अनुमति के साथ पारंपरिक तरीके से लकड़ी का उपयोग करके दाह संस्कार शुरू करने का फैसला किया गया है। मनपा की ओर से प्रतिदिन कोरोना रिपोर्ट प्रकाशित की जाती है। 1 अप्रैल की रिपोर्ट के अनुसार, मनपा की सीमा और उपनगरों में मौतों की कुल संख्या 2857 है और 23 अप्रैल को जारी रिपोर्ट में कुल मौतों का आंकड़ा 3792 हैं। यानी मनपा की रिपोर्ट के अनुसार इन 23 दिनों में, केवल 935 लोगों की कोरोना से मौतें हुई हैं। 

    सर्वाधिक अंत्येष्टि भाटनगर स्थित चिंचवड़ लिंक रोड श्मशान भूमि में हुई

    इसी कालावधि में विद्युत व गैस शवदाहिनी की सुविधा वाले मनपा की श्मशान भूमियों में कुल 1812 कोरोना ग्रस्त मृतकों के अंतिम संस्कार किए जाने की जानकारी श्मशान भूमि में रहे रजिस्टर में दर्ज आंकड़ों से सामने आयी है। इसमें से सर्वाधिक 743 अंत्येष्टि भाटनगर स्थित चिंचवड़ लिंक रोड श्मशान भूमि में हुई है। इसके अलावा भोसरी श्मशान भूमि में 601, निगड़ी श्मशान भूमि में 350 और सांगवी श्मशान भूमि में 118 अंत्येष्टि हुई है। चार श्मशान भूमि के।रजिस्टर के अनुसार 1 से 23 अप्रैल तक कोरोना ग्रस्त मृतकों की संख्या 1812 है। जबकि मनपा द्वारा जारी किए जानेवाली रिपोर्ट के अनुसार मौतों आंकड़ा 935 है। मनपा द्वारा जारी किए गए कोरोना ग्रस्त मृतक और श्मशान भूमियों में हुए अंतिम संस्कार के आंकड़ों में 877 का भारी अंतर नजर आ रहा है। मनपा द्वारा सही आंकड़े छिपाने की कोशिश की जा रही है। यह शिकायत करते हुए वरिष्ठ नगरसेविका सीमा सावले ने मनपा आयुक्त राजेश पाटिल को सौंपे ज्ञापन में कहा कि यह काफी गंभीर मामला है, प्रशासन को इसका स्पष्टीकरण देना चाहिए। साथ ही सही आंकड़े जारी कर संभ्रम को दूर करने की मांग भी उन्होंने की है।