पुणे व पिंपरी-चिंचवड़ में कोरोना के बढ़ते संक्रमण पर उपमुख्यमंत्री ने जताई चिंता

  • दोनों शहरों के लिए परीक्षण प्रभारी के तौर पर आईएएस अधिकारी नियुक्त करने के आदेश

पिंपरी. महामारी कोरोना ने पुणे जिले में आतंक मचा कर रखा है. खासकर पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ शहरों में इसका संक्रमण बड़ी तेजी से फैल रहा है. तमाम कोशिशों के बावजूद भी मरीजों की बढ़ती संख्या पर नियंत्रण पाने में प्रशासन नाकाम साबित हो रहा है. इस पर कड़ी नाराजगी जताते हुए महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री और पुणे जिले के पालकमंत्री अजीत पवार ने प्रशासन को एक आईएएस अधिकारी को पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ के लिए परीक्षण प्रभारी के तौर पर नियुक्त करने के निर्देश दिए.

अजीत पवार ने बैठक में प्रशासन से जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के हालातों का जायजा लिया. जिले में संक्रमण के मामले 25 हजार के निकट पहुंचने वाले हैं. पवार ने पुणे और पिंपरी- चिंडवड़ में संक्रमण के बढ़ रहे मामलों पर चिंता जताते हुए प्रशासन से आईएएस दर्जे के एक अधिकारी को परीक्षण प्रभारी के तौर पर नियुक्त करने के निर्देश दिए. 

मास्क नहीं लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश

उन्होंने अधिकारियों से निरुद्ध क्षेत्रों में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कड़े कदम उठाने और सार्वजनिक स्थानों में मास्क नहीं लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए. ऐसी शिकायतें मिली है कि कुछ अस्पतालों में चिकित्सक कोविड-19 वार्डों में नहीं जा रहे हैं और ऐसे मामलों में कार्रवाई की जानी चाहिए. इस पर पवार ने कहा कि लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील से लोगों का शहरी और ग्रामीण इलाकों के बीच अवागमन बढ़ने से संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं और पुलिस को ऐसे लोगों को देखना चाहिए.

परीक्षण बढ़ाए जाने चाहिए

फैक्टरी मालिकों को कर्मचारियों को रहने का स्थान मुहैया कराना चाहिए.बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार अजॉय मेहता ने कहा कि संक्रमण फैलने से रोकने के लिए अधिकारियों को ग्रामीण इलाकों में स्थानीय नेताओं की मदद लेनी चाहिए और परीक्षण बढ़ाए जाने चाहिए.