कल से एक सत्र में शुरू होगा जिला न्यायालय का कामकाज

– सुबह के सत्र में अत्यावश्यक मामलों में सुनवाई होगी

पुणे. शिवाजी नगर के जिला एवं सत्र न्यायालय का कामकाज केवल एक ही सत्र में चलाया जाएगा. मुंबई उच्च न्यायालय द्वारा प्राप्त कार्यालयीन कामकाज में किए गए सुधारों के निर्देशानुसार यह कामकाज चलाया जाएगा, लेकिन न्यायालय में केवल अत्यावश्यक मामलों में ही सुनवाई होगी.

कोरोना वायरस के कारण न्यायालयों का भी कामकाज प्रभावित हो गया था. कोरोना संकट के कारण ठप पड़े कामकाज को धीरे-धीरे सुचारु किया जा रहा है. उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार पुणे महानगरपालिका के क्षेत्र में स्थित न्यायालयों में 8 जून से दो अलग-अलग सत्रों में कामकाज करने को कहा गया था. इस कामकाज में जो केसेस अभी नतीजों पर पहुंची है ऐसे केसेस समेत आरोपों से मुक्त कराने और जमानत के मामलों की ही सुनवाई करने के निर्देश थे.

अत्यावश्यक मामलो की होगी सुनवाई

इस स्थिति में अभी पुणे शहर में कोरोना का संकट बरकरार है. ऐसे में न्यायालयीन कामकाज केवल सुबह के सत्र में कराने के संदर्भ में नये सीरे से आदेश प्राप्त हुए है. इसके तहत न्यायालय में केवल अत्यावश्यक केसेस पर सुनवाई होगी. इसलिए पक्षकार न्यायालय में बेवजह भीड़ ना करें, ऐसा आवाहन पुणे बार एसोसिएशन की ओर से किया गया है. न्यायालयीन कामकाज के दौरान किसी भी तरह से संक्रमण ना बढ़ें इसके लिए प्रयास किए जा रहे है, ऐसी जानकारी पुणे बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एड. जगदीश मुलीक, उपाध्यक्ष एड. सचिन हिंगणेकर, एड. योगेश तुपे, एड. घनश्याम दराडे, एड. विकास बाबर ने किया.