बिजली बिल पूरी तरह से अचूक, ग्राहक रखें विश्वास

– महावितरण की ओर से किया गया आवाहन

पुणे. लॉकडाउन के कारण मार्च के बाद पहली बार जून के महीने में प्रत्यक्ष रिडिंग लेकर उसके हिसाब से यूनिट को 3 महीनों के 3 हिस्सों में बांटकर उचित स्लैब के हिसाब से बिजली बील अदा किए गए है. इसलिए ग्राहक विश्वास रखें. उन्हें किसी भी तरह से अतिरिक्त बिल नहीं दिया गया या फिर किसी भी तरह का जुर्माना नहीं लगाया गया है, ऐसी जानकारी महावितरण की ओर से जारी की गई है.

अफवाहों पर विश्वास ना करें

इस संदर्भ में महावितरण की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि बिजली के जो बिल इस समय अदा किए जा रहे है, उसमें किसी भी तरह की कोई गलती नहीं है. केवल कुछ केस में मीटर रिडर की ओर से गलती होने पर ही किसी बिल में गलती हो सकती है. बाकी बिलों में किसी भी तरह की कोई गलती नहीं है. बिलों के संदर्भ में ग्राहक किसी भी तरह की अफवाहों पर विश्वास ना करें.

रिडिंग के हिसाब से ही आगे बिल उपलब्ध होंगे

लॉकडाउन के कारण अप्रैल और मई के महीने में मीटर रिडिंग जहां उपलब्ध नहीं हो पाया है, ऐसे ग्राहकों को पिछले 3 महीनों के बिजली इस्तेमाल के हिसाब से औसतन बिल भेजे गए है, लेकिन अब जून महीने से फिर एक बार मीटर रिडिंग लिए जा रहे है. इसलिए रिडिंग के हिसाब से ही आगे बिल उपलब्ध होंगे, ऐसी जानकारी विज्ञप्ति में दी गई है.