ED's show cause notice to country's largest cryptocurrency exchange WazirX
Representational Pic

    पुणे. बिटकॉइन से ज्यादा रिफंड का झांसा देकर जर्मन मोनेश क्लासिस एक्सएमआरओ (German Monesh Classis XMRO) में निवेश (Invest) कर एक इंजीनियर (Engineer) से 15 लाख की ठगी किये जाने का मामला पुणे में सामने आया है। इस संबंध में सिंहगढ़ रोड थाने में छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। धीरज राजाराम जगदाले की शिकायत के आधार पर पुलिस ने आनंद जुन्नरकर, अपर्णा जुन्नरकर, अतुल पाटिल, परशुराम पाटिल, रघुनाथ बोडखे और अजीत शर्मा नामक आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

    पुलिस के अनुसार धीरज एक इंजीनियर है, आरोपी पाटिल का सहकार नगर में ऑफिस है जहां आनंद जुन्नरकर कार्यरत था। यहीं पर धीरज और उसकी जान पहचान हुई। दिसंबर 2017 में आनंद जुन्नरकर ने धीरज को बिटकॉइन से ज्यादा रिफंड देने वाले जर्मनी के मोनेश क्लासिस एक्सएमआरओ नामक वर्च्युअल करेंसी के बारे में बताया। उनका यकीन हासिल कर तीन गुना रिफंड का लालच देकर तीन लाख रुपये निवेश कराए।

    इसके साथ ही बिटकॉइन और इथोरियम के वॉलेट पर क्रिप्टोकरेंसी में 15 लाख निवेश कराये। हालांकि इतना निवेश करने के बाद धीरज न कोई रिफंड दिया न उनके मूल पैसे लौटाए गए। खुद को ठगा पाकर उन्होंने सायबर पुलिस के पास शिकायत की। इसकी जांच पड़ताल करने के बाद उक्त आरोपियों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज किया गया।