दिवाली के बाद भी बाजार में रौनक, ग्राहकों की भीड़ से व्यापारियों में खुशी

पुणे. कोरोना का संकट होने के कारण लगभग 8 महीनों से व्यापार ठंड़ा पड़ा हुआ था. इसलिए इस वर्ष की दिवाली में मंदी रहने की आशंका व्यापारियों को थी.  लेकिन दशहरा (25 अक्टूबर) और उसके बाद दिवाली के सप्ताह में (13 से 16 नवंबर) ग्राहकों के उमड़ने से व्यापार को अच्छा प्रतिसाद मिला. 

जिससे व्यापारियों के चेहरे खिल गए हैं. खासकर दिवाली समाप्त होने के बाद भी  भी अलग-अलग बाजारों में पुणे के स्थानीय और शहर के बाहरी गांवों से भी ग्राहकों के आने के कारण व्यापारियों में खुशी छाई हुई है.

उम्मीद से अधिक प्रतिसाद

कोरोना की पृष्ठभूमि में इस वर्ष की दिवाली में 25 से 50 प्रतिशत ही व्यापार होने का अनुमान था. लेकिन कुछ व्यापारियों ने बताया, कि वास्तव में उम्मीद से अधिक प्रतिसाद मिला है. साथ ही दिवाली समाप्त होने के बावजूद छोटी चीजों  की खरीदारी के लिए ग्राहक अभी भी बाजार में आ रहे हैं, इसलिए भविष्य में भी यह ग्राहकी चलते रहने की उम्मीद व्यापारियों को  है. खासकर प्लास्टिक, क्राकरी और बर्तनों की खरीदारी तथा बिक्री जोरों पर हैं.

 शादी-ब्याह की खरीदारी

बाजार में पिछले कुछ महीनों से ग्राहकों का अभाव था. इसलिए व्यापारी चिंतित थे, लेकिन दिवाली की खरीदारी के लिए ग्राहक बाजार में आए और अब शादी-ब्याह के दृष्टिकोण से भी खरीदारी करते हुए दिखाई दे रहे हैं. कुछ जगहों पर तो कुछ माल का शार्टेज होने की जानकारी मिली है. विशेष रूप से बर्तनों  के बाजार में बर्तनों की साइज, थिकनेस और गेज में शार्टेज दिखाई दे रहा है. कढ़ाई, पतीलों  जैसी चीजें भी सभी साइज में उपलब्ध नहीं हैं. लेकिन, जरूरत के हिसाब से खरीदारी करने के लिए ग्राहक उत्सुक है. विशेष रूप से शादी का सामान बेचने वाले दुकानों में अच्छी भीड़ दिखाई दे रही है. इसलिए व्यापारी वर्ग में हर्ष का माहौल है.