Investigation campaign against liquor sellers, liquor satha, including two two wheeler seized

पुणे. सेना के मेजर की ड्रेस पहनकर लोगों को ठगने वाले एक फर्जी आर्मी ऑफिसर को अहमदनगर क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है. इस ठग के बारे में सेना के जम्मू-कश्मीर इंटेलिजेंस यूनिट की ओर से अहमदनगर पुलिस को जानकारी दी गई थी. यह फर्जी आर्मी ऑफिसर सेना में भर्ती कराने के नाम पर युवाओं को चूना लगाता था. पुलिस की जांच में यह भी सामने आया है कि आरोपी के खिलाफ इससे पहले पुणे के बंदगार्डन पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज हुआ था.

जमा कर रखे थे फर्जी दस्तावेज

गिरफ्तार हुए शख्स की पहचान भाऊराव पाटिल के रूप में हुई है. पाटिल कर्नाटक के बेलगांव का रहने वाला है. उसके पास से आर्मी ऑफिसर की तीन ड्रेस, मुहर, स्टाम्प, पत्नी के नाम पर 14 बैंक पासबुक, 7 चेक बुक, कई स्टार्स, एक एसयूवी, 5 मोबाइल फोन बरामद हुआ है. इसके अलावा उसके पास एक फर्जी अपॉइंटमेंट लेटर और फेक आईडी भी जब्त हुई है. एजेंसियों का दावा है कि आरोपी फर्जी दस्तावेज़ों और पहचान पत्रों के आधार पर कई मिलिट्री स्टेशनों में प्रवेश करता था.

सेना से किया गया था निष्कासित

पुलिस की जांच में यह भी सामने आया है कि पाटिल कुछ साल पहले सेना में असम रायफल में भर्ती जरुर हुआ था, लेकिन 2014 में वह घर छुट्टी पर आया और दोबारा रेजीमेंट में नहीं गया. इसके बाद उसे सेना से निष्कासित कर दिया गया था. आरोपी खुद को सेना का ऑफिसर बताकर लोगों को लूटता था. इसके खिलाफ अहमदनगर के एमआईडीसी पुलिस स्टेशन में धारा 170, 171, 420, 468, 465, 471, 472 के तहत एफआईआर दर्ज हुई है.