FDA takes action on the illegal sale of abortion drugs, notice issued to pharmacists

    शैलेंद्र सिंह 

    पुणे. खाद्य और औषधि प्रशासन (Food and Drug Administration) (एफडीए) ने राज्य (State) में अवैध रूप से गर्भपात की दवा (Illegal Abortion Drugs) बेचने वाले 42 विक्रेताओं को नोटिस जारी कर कार्रवाई की है, जिनमें से 14 पर मामला दर्ज किया गया है। पुणे (Pune) में दो जगहों पर एफआईआर (FIR) दर्ज किए गए हैं। 

    एमटीपी किट के विक्री पर एफडीए की करवाई

    गर्भपात के लिए उपयोग में लायी जाने वाली दवा (किट) अवैध तरीके से विक्री और दुरूपयोग किये जाने की आशंका के चलते एफडीए ने थोक विक्रेताओं के साथ साथ उन अस्पतालों का भी निरीक्षण किया जहां पर गर्भपात किये जाते हैं। एफडीए का यह अभियान 26 जून से 9 जुलाई तक चला, इस अभियान के तहत राज्य के 384 संस्थानों  की जांच की गई। 

    एफडीए टीम को जानकारी मिली थी कि खुदरा विक्रेताओं द्वारा गर्भपात की दवाएं (एमटीपी किट) अवैध रूप से प्राप्त की जा रही हैं और उन्हें ऊंचे दर पर बेचा जा रहा है। इसी संबंध में, एफडीए ने नकली ग्राहक भेजकर संबंधित खुदरा विक्रेताओं से अवैध तरीके से  बिना किसी प्रिस्क्रिप्शन और बिना बिल के अवैध रूप से गर्भपात की दवा बेचते उन्हें रंगेहाथों पकड़ा। उनके पास से 47 हजार 378 रुपए की गर्भपात की दवाएं जब्त कर कार्रवाई की गई। राज्य में ऐसे कुल 13 खुदरा विक्रेताओं के खिलाफ कार्रवाई की गयी। पुणे, मुंबई, ठाणे, नागपुर, नासिक, अमरावती और औरंगाबाद में अपराध दर्ज किए गए हैं। अब तक कुल 14 मामलों में 11 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जांच में बड़ी लापरवाही करने वाले 42 फुटकर विक्रेताओं और थोक विक्रेताओं के खिलाफ ‘कारण बताओ’ नोटिस भी जारी किया गया है। राज्य एफडीए अधिकारियों ने कहा कि प्रशासन द्वारा आगे की कार्रवाई की जा रही है। 

    गर्भपात की दवाओं का इस्तेमाल मान्यता प्राप्त गर्भपात केंद्र पर ही किया जाना चाहिए और ये दवाइयां प्रसूति विशेषज्ञों के प्रिस्क्रिप्शन पर ही बेची जानी चाहिए। ये दवाइयां बिना प्रिस्क्रिप्शन बेचने और खरीदने पर विक्रेता और ख़रीदार दोनों पर कार्रवाई की जा सकती है।

    अर्जुन खड़तरे, एफडीए के पूर्व जॉइंट कमिश्नर, ड्रग

    कहां से आये एमटीपी किट ?

    गुजरात के वेंडर ने पुणे से ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट के जरिए एमटीपी किट खरीदी। उसका बिल मिला। मामले में एफडीए कर्मचारी अहमदाबाद गए और संबंधित विक्रेता के खिलाफ स्थानिक एफडीए को सूचित किया और पिंपरी-चिंचवड़ थाने में शिकायत भी दर्ज कराई। इसके अलावां वाघोली के भी एक वेंडर के खिलाफ कार्रवाई की गई है। ऐसे में पुणे में दो मामले दर्ज़ किये गए हैं। 

    मुंबई की D.K.T Pharma के MTP किट्स की अवैध तरीके से खरीदी विक्री की जा रही है पर कंपनी इसपर ध्यान नहीं दे रही है। इस बारे में करवाई के लिए एफडीए के वरिष्ठ अधिकारीयों को जानकारी दे दी गयी है।

    एसबी पाटिल, एफडीए के असिस्टेंट कमिश्नर, पुणे