fraud stamp showing crime concept with copyspace
fraud stamp showing crime concept with copyspace

पुणे. डेढ़ करोड़ रुपए का कर्ज दिलाने का लालच देकर एक कारोबारी से 8 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला उजागर हुआ है. पुणे के विश्रांतवाडी में घटी इस घटना की लेकर संग्राम सबनीस (48) ने विश्रांतवाडी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है. इसके अनुसार पुलिस ने आईटी एक्ट और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है.

पुलिस के अनुसार संग्राम का इलेक्ट्रानिक मैन्युफैक्चरिंग का व्यवसाय है.उसे व्यवसाय के लिए लोन की आवश्यकता थी.इसके लिए उसने ऑनलाइन जानकारी प्राप्त की.6 जनवरी को एक अज्ञात नंबर से संग्राम को फोन आया, उसने स्वयं को नवरत्न फाइनेंस कंपनी का प्रतिनिधि बताते हुए फाइनेंस कंपनी से डेढ़ करोड़ रुपए का लोन मंजूर कराने का लालच दिया.

पुलिस में की शिकायत

संग्राम का विश्वास हासिल कर विभिन्न कारण बताते हुए ऑनलाइन तरीके से 8 लाख 10 हजार रुपए अपने बैंक एकाउंट में जमा करवा लिए.ये रुपए लेने के बाद भी संबंधित फाइनेंस कंपनी ने उन्हें कर्ज देने में टालमटोल की.इसके बाद उन्हें एहसास हुआ कि उनके साथ धोखाधडी की गई है.इसके चलते उन्होंने पुलिस को शिकायत की.इस मामले की जांच पुलिस निरीक्षक रवींद्र कदम कर रहे हैं.

क्रेडिट कार्ड की जानकारी लेकर 2.33 लाख ठगे

धोखाधड़ी के एक अन्य मामले में क्रेडिट कार्ड की गोपनीय जानकारी हासिल कर दो लाख 33 हजार रुपए की धोखाधड़ी किये जाने की घटना सामने आई है.इस बारे में रिपोर्ट सचिन ढाकणे (39) ने सायबर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है. पुलिस के अनुसार एक प्राइवेट कंपनी में काम करनेवाले सचिन पुणे के फुरसुंगी परिसर में रहते हैं. 5 जून को उन्हें एक फोन आया, जिसमें सामनेवाले ने खुद को बैंक का कर्मचारी बताते हुए उनसे एकाउंट की जानकारी ले ली और ऑनलाइन तरीके से दो लाख 33 हजार रुपए की ऑनलाइन धोखाधडी की.