बुलेट चोर गैंग पर हिंजवड़ी पुलिस ने कसा शिकंजा

केवल महंगी बुलेट मोटरसाइकिलों की चोरी करता था गिरोह

पुणे. पिंपरी-चिंचवड़ की हिंजवड़ी पुलिस ने वाहनचोरों की एक ऐसी गैंग पर शिकंजा कसने में सफलता पाई है जो कि केवल महंगी बुलेट मोटरसाइकिलों की चोरी करती थी. यह गैंग पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ शहर के इलाकों से बुलेट चोरी कर उन्हें उस्मानाबाद जिले में मामूली कीमतों में बेच देती थी. इस गैंग के 4 सदस्यों को गिरफ्तार कर उनसे कुल 8 बुलेट मोटरसाइकिल बरामद की गई है.

गिरफ्तार आरोपियों में सुमित सुनील सावंत (19), प्रशांत भीमराव गायकवाड (19), चेतन उर्फ श्रीपति शिवाजी कातपुरे (19) और वैजनाथ नागनाथ चौधरी (22) का समावेश है.उनके मर्फी उर्फ आशीष भिसे और फ्रांसिस नामक साथियों की तलाश की जा रही है.

मुखबिर से मिली जानकारी

हिंजवड़ी थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक यशवंत गवारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार गत कुछ दिनों पहले हिंजवड़ी थाने की सीमा से एक बुलेट चोरी हुई थी.इसकी जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि 2 लोगों ने मारुंजी और हिंजवडी से बुलेट मोटरसाइकिल चुराई है और उनका इस्तेमाल वे खुद ही कर रहे हैं.उनमें से एक कोलते पाटिल गेट के सामने खड़े रहने की जानकारी भी मुखबिर से मिली.इसके अनुसार पुलिस टीम ने जाल बिछाकर सुमित सावंत को रोका तो वह भागने लगा.उसे दबोच कर पूछताछ करने पर उसने स्वीकार किया कि यह बुलेट चोरी की है.

औने पौने दामों पर बेच देते थे

गिरफ्तार कर पूछताछ करने पर सुमित ने अपने साथियों के नाम बताए और यह भी बताया कि उन्होंने मिलकर हिंजवडी, चिंचवड और पुणे के वारजे मालवाडी परिसर से बुलेट चुराई है.इसके बाद पुलिस ने उसके अन्य 3 साथियों को भी गिरफ्तार किया।इस बुलेट चोर गैंग ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया कि वे पिंपरी-चिंचवड़ और पुणे से बुलेट मोटरसाइकिलें चुराकर उस्मानाबाद जिले के भूम, परांडा में फ्रांसिस की मदद से 5 से 10 हजार के औने पौने दामों पर बेच देते थे.

आठ बुलेट चोरी की वारदातें उजागर

उन्होंने परांडा के वैजनाथ चौधरी और अन्य लोगों को बुलेट बेची थी.उनसे 8 लाख रुपए की 8 बुलेट मोटरसाइकिलें बरामद की गई है. इस गैंग से हिंजवडी पुलिस थाने में दर्ज 5, चिंचवड और वारजे मालवाडी पुलिस थानों में दर्ज एक- एक कुल आठ बुलेट चोरी की वारदातें उजागर हुई हैं. इस कार्रवाई को हिंजवड़ी थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक यशवंत गवारी, पुलिस निरीक्षक (क्राइम) अजय जोगदंड, डिटेक्शन ब्रांच (डीबी) के सहायक पुलिस निरीक्षक सागर काटे, कर्मचारी मारणे, किरण पवार, शिंदे, आतिक शेख, कुंभार, कुणाल शिंदे, विवेक गायकवाड, राणे, पालवे, गडदे, चव्हाण, कोली, गुमलाडू की टीम ने अंजाम दिया.