मोटरसाइकिलें चुरानेवाले अंतरराज्यीय गैंग का पर्दाफाश, 3 गिरफ्तार

  • साढ़े 7 लाख की 8 मोटरसाइकिलें बरामद

पिंपरी. बुलेट समेत महंगी मोटरसाइकिलें चुराकर दूसरे राज्य में बेचने वाली एक अंतरराज्यीय गैंग पर शिकंजा कसने में पिंपरी-चिंचवड़ पुलिस की क्राइम ब्रांच के यूनिट-1 की टीम ने सफलता प्राप्त की है. यह गैंग कर्नाटक राज्य यहां आकर पिंपरी-चिंचवड शहर आसपास के परिसरों के अपने साथियों के साथ मिलकर महंगी मोटरसाइकिलें चुराती और कर्नाटक ले जाकर उसे बेच देती. इस गैंग के 3 सदस्यों को गिरफ्तार उनसे साढ़े सात लाख रुपए की 8 मोटरसाइकिलें बरामद की गई है. उनसे वाहनचोरी के 7 मामले उजागर हुए हैं. 

समांतर जाचं चल रही थी

यूनिट-1 के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक उत्तम तांगडे ने इस कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया कि इस अंतरराज्यीय गैंग के अमरेश किसन चव्हाण (19), किरण नूरसिंह राठोड (20), करण अर्जुन कु-हाडे (19) को गिरफ्तार किया गया है. 3 अक्टूबर के तड़के चिखली की नेवालेबस्ती इलाके से दो बुलेट मोटरसाइकिलें चोरी की घटना सामने आई थी. इस मामले में स्थानीय चिखली पुलिस और क्राइम ब्रांच यूनिट-1 समांतर जांच कर रही थी. इलाके में लगे सीसीटीवी फुटेज और तकनीकी विश्लेषण के आधार पर आरोपियों की शिनाख्त होने के बाद सबसे पहले अमरेश चव्हाण को मोशी से हिरासत में लिया गया.

पुलिस की पूछताछ में जुर्म कबूला

पुलिस की पूछताछ में अमरेश ने चिखली के अलावा हिंजवड़ी से भी मोटरसाइकिलें चुराने की वारदात स्वीकार की. उसे गिरफ्तार कर अदालत में पेश करने पर 18 अक्टूबर तक उसे पुलिस कस्टडी में भेजने का आदेश दिया गया. आगे की पूछताछ में उसके 2 साथियों को मावल तालुका के तलेगांव से गिरफ्तार किया गया. उन्होंने बताया कि वे और कर्नाटक के उनके अन्य 2 साथी मिलकर पिंपरी-चिंचवड़ से महंगी मोटरसाइकिलें चुराकर उन्हें कर्नाटक के रायचूर जिले में स्थित देवदुर्गा अपने गांव में बेचने के लिए ले जाते थे. यूनिट-1 के पुलिस उपनिरीक्षक कालूराम लांडगे ने कर्नाटक में 4 दिन रुककर आरोपियों द्वारा छिपाकर रखी 2 बुलेट, 3 एफ झेड, 2 पल्सर, 1 पैशन आदि कुल साढ़े सात लाख रुपए की 8 मोटरसाइकिलें बरामद की. इस कार्रवाई से चिखली थाने में दर्ज बुलेट चोरी की 2,  तलेगांव दाभाडे थाने में दर्ज एफ जेड चोरी की 2, हिंजवडी थाने में पल्सर और पैशन मोटरसाइकिल चोरी की 2 वारदातें उजागर हुई है. इस कार्रवाई को क्राइम ब्रांच युनिट-1 के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक उत्तम तांगडे, सहायक निरीक्षक गणेश पाटील, उपनिरीक्षक कालूराम लांडगे, सहायक फौजदार रविंद्र राठोड, रविंद्र गांवडे, पुलिस कर्मचारी बालू कोकाटे, अमित गायकवाड, महादेव जावले, सोमनाथ बो-हाडे, सुनिल चौधरी, प्रमोद हिरलकार, सचिन मोरे, अंजनराव सोडगिर, प्रमोद गर्जे, आनंदा बनसोडे, राजेंद्र शेटे, नागेश माली के समावेश वाली टीम ने अंजाम दिया.