आवश्यक दुकानें भी रात 10 बजे तक खुली रखें

  • विपक्षी नेता दीपाली धुमाल की मनपा आयुक्त से मांग

पुणे. राज्य सरकार ने सोमवार को पुणे शहर में होटल और बार खोलने का फैसला किया. 5 अक्टूबर से उनको अनुमति दी गई है. महापालिका ने रात 10 बजे तक शुरू रखने की उन्हें मंजूरी दी है. महापालिका द्वारा कहा गया है कि मॉल में दुकानें रात 10 बजे तक खुली रहेंगी.  हालांकि, महापालिका  ने किराना, सब्जियां, फल, कपड़े, सोना-चांदी, इलेक्ट्रिकल, कमोडिटी, वाहन स्पेयर पार्ट्स, जनरल स्टोर से पहले विभिन्न प्रकार की दुकानों को सिर्फ शाम 7 बजे तक खुली रखने की अनुमति दी है. इससे इन व्यापारियों में नाराजगी का माहौल है. इस वजह से इन लोगों को रात 10 बजे तक अनुमति दी जाए. ऐसी मांग महापालिका विपक्षी नेता दीपाली धुमाल ने महापालिका आयुक्त से की है.

उत्सव का कालावधि

धुमाल के अनुसार  वर्तमान में उत्सव का कालावधि चल रहा है.  उसके कारण, धार्मिक विधियां चल रही है. साथ ही नवरात्र 17 अक्टूबर से हैं. दिवाली 14 नवंबर से शुरू हो रही है. पिछले सात महीनों से नागरिक घर पर हैं. परिणामस्वरूप, बाजार  व्यापारियों और नागरिकों को शाम 7 बजे दुकानें बंद करने के निर्णय से प्रभावित हुआ है. क्योंकि उन्होंने हाल ही बाजार में आना शुरू कर दिया है.  सार्वजनिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए सरकारी और निजी कार्यालयों में उपस्थिति बढ़ रही है.  काम के लिए घर छोड़ने वालों की संख्या भी बढ़ने लगी. शादी समारोहों में कुछ रियायतें भी दी जाती हैं. धुमाल ने कहा कि चूंकि यह एक उत्सव का कालावधि है. इसलिए दुकानों को हमेशा की तरह रात 10 बजे तक खुला रहने दिया जाना चाहिए.

दिन में भीड़ बढ़ रही

धुमाल ने सवाल किया कि  क्या होटल और बार की  दुकानें खुली करना उचित हैं?  नागरिक दिन के दौरान अपनी नौकरी में व्यस्त हैं और शाम को खरीदारी के लिए दुकानें नहीं हैं.  साथ ही, दुकानों में समय की कमी के कारण, दिन भर भीड़ भी बढ़ रही है. इसलिए कोरोना का प्रभाव बढ़ने की संभावना है. धुमाल ने कहा कि हालांकि, मेरा आपसे अनुरोध है कि होटल और बार जैसी अन्य आवश्यक दुकानें रात 10 बजे तक खुली रहें. इन दुकानों को राज्य सरकार के नियमों और विनियमों के अनुसार खोलने की अनुमति भी दें.