उद्योगनगरी में साकार होगी ललित कला अकादमी, केंद्र सरकार की मंजूरी

  • भाजपा शहराध्यक्ष और विधायक महेश लांडगे की जानकारी

पिंपरी. उद्योगनगरी के रूप में परिचित पिंपरी- चिंचवड शहर की अब एक नई पहचान ‘कलानगरी’ के रूप में भी होगी. केंद्र सरकार ने शहर में ललित कला अकादमी शुरू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है. पूरे महाराष्ट्र में यह पहला ललित कला अकादमी केंद्र होगा. यह दावा भाजपा शहराध्यक्ष तथा विधायक महेश लांडगे ने दी है.

लांडगे ने बताया कि भोसरी विधानसभा चुनाव क्षेत्र में करीबन 15 एकड़ भूमि पर यह अकादमी शुरू की जाएगी.देश के विविध राज्यों में ललित कला अकादमी केंद्र शुरू किए गए हैं.मगर कला की पंढरी कहे जानेवाला महाराष्ट्र इससे दूर ही रहा. कला अकादमी महाराष्ट्र में शुरू हो इसके लिए राज्य के शिल्पकार, मूर्तिकार, चित्रकार गत 40 वर्षों से प्रयासरत थे. इस दौरान ललित कला अकादमी के अध्यक्ष उत्तमराव पाचर्णे, भाजपा विधायक महेश लांडगे और पिंपरी चिंचवड़ मनपा कमिश्नर श्रावण हर्डिकर ने केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्री प्रल्हाद सिंह पटेल से मिलकर शहर में ललित कला अकादमी शुरू करने को लेकर कोशिशें शुरू की थीं.

40 वर्षों से की जा रही थी मांग

अकादमी के अध्यक्ष उत्तमराव पाचर्णे ने बताया कि गत 40 वर्षों से महाराष्ट्र में ललित कला अकादमी केंद्र शुरू करने की मांग की जा रही है. हालांकि, राजनीतिक उदासीनता ने केंद्र की स्थापना में बाधा उत्पन्न की थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसमें ध्यान दिया और संस्कृति मंत्रालय को दिशा-निर्देश दिए. चेन्नई से दिल्ली तक पश्चिमी भाग में कोई केंद्र नहीं है. इसलिए इस क्षेत्र में कलाकारों के साथ अन्याय हो रहा था.पहले 4 केंद्र देश में होने थे.उनमें से एक मुंबई जा रहा था, हालांकि ऐसा नहीं हुआ, इसलिए संस्कार भारती के अध्यक्ष वासुदेव कामत और कई अन्य लोगों की निरंतर कोशिशों के अंत में महाराष्ट्र में पहला ललित कला अकादमी केंद्र मंजूर करा सके।पिछली सरकार और वर्तमान सरकार के बीच यही अंतर है.केंद्र सरकार ने मांग की कि महाराष्ट्र में जगह उपलब्ध कराई जाए.पिंपरी चिंचवड मनपा प्रशासन ने ऐसी तत्परता दिखाई. इसके बाद केंद्र सरकार इसके प्रस्ताव को मंजूरी दे दी.

स्थानीय कलाकारों के लिए मंच तैयार करेगा

विधायक महेश लांडगे ने कहा कि इंडस्ट्रियल सिटी, लेबर सिटी, ऑटो हब, आईटी सिटी, स्पोर्ट्स सिटी, एजुकेशन हब और अब पिंपरी-चिंचवड़ शहर को कलानगरी के नाम से जाना जाना चाहिए. इसके लिए, भोसरी विजन -2020 के माध्यम से, हमने ललित कला अकादमी के लिए एक अनुवर्ती शुरुआत की थी.राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री और विपक्ष के वर्तमान नेता देवेंद्र फड़नवीस और केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्री प्रल्हाद सिंह पटेल की मदद से सभी ने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की है. पिंपरी-चिंचवड़ में ललित कला अकादमी की स्थापना से शहर की लोकप्रियता बढ़ेगी. विशेष रूप से यह अकादमी महाराष्ट्र के पिंपरी-चिंचवड़ में स्थापित की जा रही है. यह स्थानीय कलाकारों के लिए एक मंच तैयार करेगा.