बड़े पैमाने पर अवैध असलहा बरामद, 6 गिरफ्तार

  • 18 पिस्तौल जब्त

पुणे. नए पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता द्वारा पुणे पुलिस की कमान संभालने के साथ ही पुणे की हड़पसर पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए अवैध असलहों का जखीरा बरामद करने में सफलता पायी है. इस कार्रवाई में 6 शातिर बदमाशों को गिरफ्तार कर उनसे 18 देसी पिस्तौल और 27 राउंड कारतूस बरामद किए गए. पुणे पुलिस के इतिहास में किसी एक कार्रवाई में इतने बड़े पैमाने पर अवैध असलहे बरामद होने का यह पहला अवसर है. इस कार्रवाई से पूरे शहर में खलबली मच गई है.

 गिरफ्तार आरोपी

इस मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों में अरबाज रशिद खान (21), सूरज रमेश चिंचणे उर्फ गुल्या (22), कुणाल नामदेव शेजवल उर्फ यश (19), जयेश राजू गायकवाड उर्फ जय (28), शरद बन्सी मल्लाव (21), विकास भगत तौर उर्फ महाराज (28) शामिल है. यह गैंग अवैध असलहों की तस्करी के लिए कुख्यात बताई जा रही है. उनके खिलाफ हड़पसर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है.  

अरबाज और विकास भगत गैंग के सरगना

पुणे पुलिस आयुक्तालय के परिमंडल-5 के पुलिस उपायुक्त सुहास बावचे ने एक संवाददाता सम्मेलन में इस कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया कि अरबाज खान और विकास भगत उर्फ महाराज यह इस गैंग के सरगना हैं. इस गैंग और उसके गुर्गों के खिलाफ पुणे शहर और ग्रामीण पुलिस में अवैध असलहों की तस्करी समेत कई आपराधिक मामले दर्ज हैं. हड़पसर परिसर में सेंधमारी और दूसरी आपराधिक घटनाओं के मद्देनजर जांच में जुटी हड़पसर पुलिस को कुछ युवकों के पास अवैध असलहे रहने की जानकारी मुखबिर से मिली थी.

मुखबीर से मिली टिप

इसके अनुसार पुलिस उपनिरीक्षक सौरभ माने, सहायक उपनिरीक्षक पठान, कर्मचारी नितीन मुढे, प्रशांत टोणपे, प्रवीण उत्तेकर और उनकी टीम ने जाल बिछाकर आरोपियों को हिरासत में लिया. पूछताछ में उनसे 18 देसी पिस्तौल और 27 राउंड कारतूस समेत पौने छह लाख रुपए का माल बरामद किया गया.गिरफ्तार सभी आरोपी शातिर बदमाश हैं. अब पुलिस यह जानने में जुटी है कि उन्होंने इन असलहों का इस्तेमाल कहां, क्यों और कैसे किया? साथ ही उन्होंने ये असलहे कहाँ से हासिल किए, उनके दूसरे साथी कौन हैं? इसकी भी छानबीन शुरू है. साथ ही पुलिस उपायुक्त सुहास बावचे ने यह भी संभावना जताई है कि उनसे और भी असलहे मिल सकते हैं. इस संवाददाता सम्मेलन में हडपसर थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक रमेश साठे, पुलिस निरीक्षक (क्राइम) हेमराज कुंभार उपस्थित थे.