महामेट्रो ने किया डीसी रूल का उल्लंघन

  • शिवसेना गुटनेता पृथ्वीराज सुतार ने लगाया आरोप
  • अधिकारियों के साथ एक बैठक आयोजित करने की मांग

पुणे. पुणे शहर में महामेट्रो की ओर से वनाज से रामवाडी और पिंपरी से स्वारगेट ऐसे दो मेट्रो मार्गों का निर्माण किया जा रहा है, लेकिन साइट पर यह काम करते समय, मेट्रो द्वारा कई महानगरपालिका डी.सी. नियमों (निर्माण विकास नियमों) का उल्लंघन किया गया है.

कई स्थानों पर गलत निर्माण कार्य किया गया है. जो पुणे महापालिका की विकास योजना को प्रभावित कर रहा है. ऐसा आरोप शिवसेना गुटनेता पृथ्वीराज सुतार ने लगाया है.  इसको लेकर महामेट्रो के अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित करने की मांग मनपा कमिश्नर विक्रम कुमार से सुतार ने की है.

किया जा रहा है गलत निर्माणकार्य

इस बारे में सुतार ने कहा है कि विकास योजना और उस पर निर्मित मेट्रो में दिखाए गए प्रस्तावित चौड़ीकरण व पिलर का निर्माण, नदी बेसिन में लाल रेखा और नीली रेखा पर विचार किए बिना मेट्रो द्वारा किया गया निर्माण, टीओडी  क्षेत्र में निर्माण और 98 मीटर चौड़ाई और उससे कम की सड़क पर मेट्रो का निर्माण, ऐसे सभी गलत निर्माणों का परिणाम महापालिका की रूपरेखा पर हो रहा है. इस तरह के गलत निर्माणों के कारण, पुणे शहर के नागरिक और  हमें भविष्य में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा. सुतार ने कहा कि यहां तक कि अगर आपको छोटे से निर्माण कार्य के लिए अनुमति प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको बहुत संघर्ष करना पड़ता है. मनपा कई नियमों के अधीन रहकर अनुमति देती है. तो फिर पुणे मेट्रो के लिए महापालिका आंख मूंदकर क्यों अनुमति देती है? हालांकि, हमारे पास मेट्रो अधिकारी, शहर के इंजीनियर और साथ ही संबंधित मनपा अधिकारी हैं. आपके साथ मेरी उपस्थिति में और मेट्रो द्वारा आपातकालीन बैठक आयोजित की जानी चाहिए. ऐसी मांग सुतार ने की है. इस बैठक में किए गए कार्यों और भविष्य में किए जाने वाले कार्यों की प्रस्तुतियां होनी चाहिए, ऐसी भी मांग सुतार ने की है.

मेट्रो द्वारा किए जा रहे सभी गलत निर्माणों का परिणाम महापालिका की रूपरेखा पर हो रहा है. इस तरह के गलत निर्माणों के कारण, पुणे शहर के नागरिक और हमें भविष्य में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा. -पृथ्वीराज सुतार, गुटनेता, शिवसेना, मनपा