पुणे की 8 पुलिस कॉलोनियों में मोबाइल कैंटीन सेवा शुरू

पुणे. पुणे पुलिस ने कोरोना के मद्देनजर शहर की 8 पुलिस कॉलोनियों में मोबाइल कैंटीन की सुविधा शुरू की है. अब पुलिस के परिवार को घर पर अनाज और दूसरी सुविधाएं नहीं दी जाएंगी. कोरोना का प्रादुर्भाव हर दिन बढ़ता जा रहा है. इसे रोकने के लिए जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और पुलिस विभाग 24 घंटे काम कर रहा है. अब तक शहर में कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे 91 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. जबकि दो पुलिसकर्मियों की मौत भी हो चुकी है. ऐसे में पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित न हों इसलिए प्रशासन की तरफ से अलग-अलग कदम उठाए जा रहे हैं. 

शहर में स्वारगेट, सोमवार पेठ, विश्रांतवाड़ी, खड़क, खड़की, बॉडीगेट, भवानी पेठ और गोखलेनगर सहित 8 पुलिस कॉलोनियां हैं. इन जगहों पर बड़ी संख्या में पुलिस वाले रहते हैं. उनके लिए यह सुविधा शुरू की गई है. महीने में दो बार दोपहर साढ़े तीन बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक यह कैंटीन खुली रहेगी. कॉलोनी के लोगों के पास कभी मोबाइल कैंटीन नहीं आएगी. इसे प्रमुखता से नोटिस बोर्ड पर सूचना देने के निर्देश दिए गए हैं.

पुलिसकर्मियों को सावधान रहने के निर्देश 

 इसके साथ ही शिवाजीनगर पुलिस मुख्यालय में मुख्य कैंटीन भी रविवार को छोड़कर बाकी दिनों में सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक खुली रहेगी. पुलिस स्टेशन या बंदोबस्त में तैनात पुलिसकर्मियों को सावधान रहने के निर्देश दिए गए हैं. पुलिसकर्मियों के साथ उनके परिवार का भी पुलिस विभाग द्वारा ध्यान रखा जा रहा है. पुलिसकर्मियों के लिए खास हॉस्पिटल आरक्षित रखे गए हैं. शिवाजी नगर पुलिस मुख्यालय में सुविधा केंद्र में पुलिसकर्मियों के लिए कैंटीन है. यहां से भी पुलिसकर्मी व उनके परिवार के लोग अनाज, गृहपयोगी समान ले जाते हैं, लेकिन पिछले कुछ दिनों से इस कैंटीन में काफी भीड़ होने लगी है. कोरोना काल में इस जगह पर ज्यादा भीड़ न हो इसलिए यह सुविधा शुरू की गई.