पुणे स्टेशन पर मॉक ड्रील

पुणे. देश के व्यस्ततम रेलवे स्टेशनों में से एक पुणे रेलवे स्टेशन (Pune railway station) से रोजाना लगभग 2 लाख यात्रियों का आवागमन होता है. इसलिए यहां पर यात्रियों की सुरक्षा (Security) का विशेष ध्यान रखा जाता है. समय-समय पर इसकी निगरानी की जाती रहती है. इसी कड़ी में शुक्रवार को पुणे स्टेशन पर सफल मॉक ड्रिल (Mock drill) का आयोजन किया गया. 

उक्त मॉक ड्रील में CBRN हमले के समय सभी संबंधितों का कार्य क्या होगा और उसको किस प्रकार से अंजाम दिया जाएगा. इस संबंध में प्रात्यक्षिक किया गया, जो कि इस प्रकार के हमलों से निपटने के लिए अवश्य ही कारगर साबित होगा.

जागरूकता लाना मकसद

मंडल सुरक्षा आयुक्त और सहायक सुरक्षा आयुक्त पुणे के मार्गदर्शन और उपस्थिति में पुणे रेलवे स्टेशन पर रेलवे यात्रियों की सुरक्षा को और मजबूत बनाने और आपातकाल परिस्थिति जैसे कि CBRN (केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडीओएक्टिव एंड न्यूक्लियर ) अटैक का सामना करने और रेल यात्रियों को खतरे से बाहर रखने के लिए साथ ही सभी रेल कर्मचारियों को उपरोक्त प्रकार के आपातकालीन परिस्थिति का सामना करने की जागरूकता निर्माण करने के लिए रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स पुणे के निरीक्षक अश्वनी कुमार और टीम, लोहमार्ग पुलिस पुणे के निरीक्षक सुरेश गौड़ और टीम, बंडगार्डन पुलिस के निरीक्षक दिगंबर शिंदे और टीम, एनडीआरएफ की पांचवीं बटालियन के निरीक्षक ए के जेना और टीम, जीआरपी की बीडीडीएस टीम, रेलवे की डिजास्टर मैनेजमेंट टीम, फायर ब्रिगेड, रेलवे अस्पताल पुणे की टीम, रेलवे का कमर्शियल स्टाफ आदि के सहयोग से पुणे रेलवे स्टेशन पर इस मॉकड्रील को अंजाम दिया गया.