मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने की कारोबारी हसन अली से 3 दिन तक पूछताछ

पुणे. मनी लॉन्ड्रिंग मामले (Money laundering cases) में पुणे के कारोबारी (Businessmen of Pune) और स्टड फार्म के मालिक हसन अली खान (Hassan Ali Khan, owner of Stud Farm) से प्रवर्तन निदेशालय (ED) के अधिकारियों ने पुणे में उनके निवास पर लगातार 3 दिन पूछताछ की. हसन अली पर मनी लॉन्ड्रिंग के 2 मामले चल रहे हैं और इनमें से प्रत्येक मामले में उनसे करीब 10 घंटे तक पूछताछ की गई. उनके वकील प्रशांत पाटिल ने ईडी की कार्रवाई को उत्पीड़न करार दिया है.

गौरतलब हो कि करोड़ों के घोटाले कर स्विस बैंक (Swiss Bank) में पैसे जमा करने के आरोप में ईडी ने हसन अली खान के खिलाफ़ कई केस दर्ज किये हैं. सीबीआई (CBI) ने भी खान के खिलाफ मामला दर्ज किया था. एक दशक पहले टैक्स चोरी के कम से कम 7 मामलों में घिरने के बाद हसन अली सुर्खियों में आए थे. ये टैक्स चोरी एक दो नहीं, बल्कि हजारों करोड़ रुपए में हुई थी. हालांकि, इन सभी मामलों में बॉम्बे हाई कोर्ट द्वारा 2015 में जमानत दिए जाने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया था.

मनी लॉन्ड्रिंग मामलों में भी मुकदमा शुरू होना तक बाकी : पाटिल

पुणे में हसन अली के घर पर तीन दिन तक चली ईडी की ताजा पूछताछ के बाद हसन अली के वकील पाटिल ने कहा कि मेरे मुवक्किल के खिलाफ इन मामलों की स्थिति यह है कि मनी लॉन्ड्रिंग मामलों में भी मुकदमा शुरू होना तक बाकी है. इसलिए हमने कोर्ट को मामलों के शीघ्र निपटारे का अनुरोध किया है. पाटिल ने यह भी कहा कि उनके मुवक्किल पर 34 हजार करोड़ की टैक्स चोरी का आरोप लगा था, लेकिन बाद में वह केवल तीन से चार करोड़ रुपए का ही निकला.

परेशान करने का एक नया एपिसोड शुरू हुआ

एड. पाटिल ने मीडिया से की गई बातचीत में कहा कि यह सरकारी एजेंसियों द्वारा परेशान करने का एक नया एपिसोड शुरू हुआ है. आज तक ईडी और सीबीआई खान के खिलाफ कोई भी प्रथम दृष्टया केस स्थापित नहीं कर पाए हैं. पाटिल ने खान की सेहत के बारे में कहा कि उन्होंने अपनी दोनों किडनी खो दी हैं, उनकी सेहत भी खराब रहती है. उनका परिवार समाज से अलग-थलग हो गया है. अब हम हाई कोर्ट के समक्ष रिट याचिका दायर करने की योजना बना रहे हैं.