कोरोना प्रभावित छात्रों के परिवारों के लिए बिना-ब्याज के एजुकेशन लोन

पुणे. स्कूलों की प्रमुख श्रृंखला, विबग्योर ग्रुप ऑफ स्कूल्स ने कोविड प्रभावित परिवारों के बच्चों की पढ़ाई से जुड़े खर्चों को पूरा करने के लिए वित्तीय सहायता कार्यक्रम की घोषणा की है. इसके तहत आसान किस्त पर एजुकेशन लोन दिया जाएगा. कार्यक्रम के तहत प्रत्येक परिवार 27 महीनों तक 5 लाख रुपये (2.5 लाख रुपये प्रति छात्र) तक के अधिकतम 2 कर्ज ले सकता है. जिन छात्रों की फीस बकाया है उन्‍हें यह ब्‍याज-मुक्‍त कर्ज दिया जा रहा है, और विबग्योर उन्‍हें 30 सितंबर, 2020 तक 100 प्रतिशत सब्सिडी देगा.

विबग्योर ग्रुप ऑफ स्कूल्स के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर, पेशवा आचार्य ने कहा कि हम उन छात्रों की मदद करने के नए तरीके और साधन खोज रहे हैं जिनके माता-पिता पर महामारी का आर्थिक असर पड़ा है. इस कठिन समय में हमारा उद्देश्य है कि एक-दूसरे की सहायता की जाए. हम लॉकडाउन के बीच भी शिक्षा देने की लगातार कोशिश कर रहे हैं.

उनकी समस्याओं को सुनने के बाद हम महामारी से कारण आर्थिक रूप से प्रभावित हुए विबग्योर अभिभावकों की मदद के लिए आसान किस्त वाला एजुकेशन लोन लेकर आए हैं. ये अभिभावक अपने बच्चों  की पढ़ाई जारी रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. बिना ब्याज वाला यह कर्ज पढ़ाई से जुड़े सभी खर्चों को कवर करेगा और सुनिश्चित करेगा कि इन छात्रों को पढ़ाई से संबंधित किसी चीज की कमी न हो. आसान किस्त वाला यह एजुकेशन लोन मुंबई, पुणे, नासिक और वडोदरा में दिया जा रहा है. कर्ज की अवधि 27 महीने की है, जिसमें 3 महीने का मोरेटोरियम भी शामिल हैं.