सकारात्मक राय के बावजूद न्यूनतम वेतन नहीं मिल रहा

  • कर्मी हो रहे परेशान
  • NUHM के तहत काम करनेवाले कर्मियों का मामला

पुणे. महापालिका के स्वास्थ्य विभाग में राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान यानी NUHM अभियान मुहैया किया गया है. इसके तहत विभिन्न उपक्रम चलाए जाते हैं. इसके लिए 333 कर्मी लिए गए हैं, लेकिन इन कर्मियों को न्यूनतम वेतन के तहत वेतन नहीं दिया जा रहा है, जबकि इसके लिए महापौर समेत लेखापाल विभाग ने सकारात्मक राय दी है. इससे कर्मी परेशान हो रहे हैं.

333 कर्मी कर रहे काम

राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान यानि NUHM अभियान के तहत विभिन्न उपक्रम मुहैया किए जाते है. इसमें स्वास्थ्य जांच शिविर, असांसर्गिक बीमारियों की जनजागृति अभियान ऐसे उपक्रम चलाए जाते हैं. इसके लिए कुल 333 कर्मी काम पर लिए हैं. हाल ही में इन लोगों को कोरोना का भी काम दिया गया है. इस वजह से इन कर्मियों द्वारा मनपा प्रशासन से मांग की जा रही थी कि हमें न्यूनतम वेतन कानून के अनुसार वेतन अदा किया जाए. इसको लेकर इन लोगों द्वारा महापौर मुरलीधर मोहोल से भी शिकायत की थी. महापौर ने स्वास्थ्य विभाग से निर्देश दिए थे कि इसकी मांग पर अमल करें.

स्वास्थ्य व लेखापाल विभाग सकारात्मक

महापौर के निर्देशानुसार स्वास्थ्य विभाग ने राय दी थी कि इसके लिए 1 करोड़ 44 लाख की लागत आएगी. उसका प्रावधान विभाग द्वारा किया जा सकता है. लेखापाल विभाग ने भी यह निधि देने के लिए सकारात्मक राय दी है. कुल 333 कर्मी काम कर रहे हैं. इसमें से 291 कर्मी न्यूनतम वेतन के लिए पात्र हो रहे है. ऐसी सकारात्मक राय होने के बावजूद भी इन कर्मियों को कानून के अनुसार वेतन नहीं मिल पा रहा है. इससे कर्मी परेशान हो रहे हैं.