crime

  • छेड़छाड़ की बदनामी के डर से खुद पर चलाई गोली
  • शिवाजीनगर पुलिस मुख्यालय की घटना से महकमे में खलबली

पुणे. पुणे के पुलिस महकमे में मंगलवार को तब खलबली मच गई जब एक पुलिसकर्मी ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी करने की कोशिश की. हालांकि गोली उसे न लगकर उसे बचाने की कोशिश कर रहे दूसरे पुलिसकर्मी को जा लगी जिसमें वह कर्मचारी घायल हो गया है.

इस मामले की छानबीन में चौंकानेवाला खुलासा हुआ है.असल में फायरिंग करनेवाले पुलिसकर्मी ने सोई हुई एक महिला पुलिसकर्मी के साथ छेड़छाड़ की. जब नींद से जगी महिला पुलिसकर्मी ने शोर मचाया तब उसने बदनामी के डर से एक पुलिसकर्मी की बंदूक छीनकर खुद को गोली मारने की कोशिश की. उससे वापस बंदूक छीनने और बचाने के चक्कर में वह पुलिस कर्मचारी घायल हुआ है. उसका अस्पताल में इलाज जारी है.

सोई हुई महिला पुलिसकर्मी से छेड़छाड़

यह पूरी घटना शिवाजीनगर स्थित पुलिस मुख्यालय में आज तड़के घटी है. इसमें घायल पुलिसकर्मी का नाम दत्तात्रय बेंडाले (48) है.इस मामले में शिवाजीनगर पुलिस ने मयूर ज्ञानेश्वर सस्ते नामक पुलिस सिपाही को हिरासत में लेकर उसके खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस घटना के बाद पुलिस मुख्यालय फिर एक बार चर्चा और विवादों के घेरे में आ गया है. इससे पहले यहां फाइल के लेनदेन को लेकर हुए विवाद में साइबर पुलिस थाने के दो पुलिस कर्मचारियों के बीच फ्री स्टाइल मारपीट की घटना घटी थी.वहीं कुछ दिन पहले ड्यूटी लगाने के विवाद में एक महिला सिपाही द्वारा महिला हवलदार के साथ मारपीट किये जाने की घटना सामने आई थी.अब सीधे मुख्यालय में छेड़छाड़ और फायरिंग की घटना से न केवल पुलिस मुख्यालय बल्कि पूरे महकमे में खलबली मच गई है.इसके साथ ही महिला पुलिस कर्मचारियों की सुरक्षा का प्रश्न भी गहरा गया है.ऐसे जरूरत है कि आला अधिकारी पुलिस मुख्यालय में गंभीरता से ध्यान दें.

क्या है पूरा मामला

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार की रात पुलिस सिपाही मयूर सस्ते की ड्यूटी क्वार्टर गार्ड विभाग में लगाई गई थी.यहां उसके खिलाफ छेड़छाड़ की शिकायत दर्ज करानेवाली महिला पुलिस कर्मचारी की भी तैनाती थी. मध्यरात्रि के दौरान महिला पुलिसकर्मी की आंख लग गई, इसका फायदा उठाते हुए सस्ते ने उसके साथ छेड़छाड़ की. नींद से जागी महिला पुलिसकर्मी ने शोर मचाया. इसके चलते बदनामी के डर से सस्ते ने सुरक्षा अमलदार दत्तात्रेय बेंडाले के हाथ से बंदूक छीन कर खुद पर गोली चलाने की कोशिश की.जब बेंडाले ने उससे अपनी बंदूक छीनने और मयूर को बचाने की कोशिश की तब फायरिंग हो गई और उनके हाथ में गोली लगी. फायरिंग की घटना से पूरे मुख्यालय में खलबली मच गई. इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी दौड़े- दौड़े मुख्यालय पहुंचे.जब पूरे मामले की छानबीन की गई तब यह पूरी घटना सामने आयी. हालांकि इस घटना की विस्तृत जानकारी देने में आला अधिकारी बचने की भूमिका अपनाते नजर आए.