STUDENTS
file

  • प्रतियोगी परीक्षाओं का अध्ययन करनेवाले विद्यार्थियों को तैयारी में मिलेगी मदद
  • महिला एवं बालकल्याण समिति के समक्ष प्रस्ताव

पुणे. पुणे महानगरपालिका (Pune Municipal Corporation) के समाज विकास विभाग की ओर से विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं चलाई जाती हैं। इसके अनुसार फैसला लिया गया था कि शहर के जो छात्र एमपीएससी (MPSC)और यूपीएससी (UPSC) जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की पूर्व परीक्षा में पास हुए हैं, उन्हें मुख्य परीक्षा की किताबें खरीदने के लिए 5 हजार रुपए की निधि दी जाए। 

ऐसे करीब 100 छात्रों (Students) को यह निधि दी जाएगी। इससे सम्बंधित प्रस्ताव मंजूरी (Sanction) के लिए प्रशासन द्वारा महिला एवं बाल कल्याण समिति के समक्ष रखा गया है।

बजट में किया गया है प्रावधान

वर्ष 2019-20 के लिए पीएमसी के बजट में स्थायी समिति द्वारा समाज कल्याणकारी योजना के तहत, पुणे शहर  के स्थायी निवासी छात्रों के लिए आयोग की राज्य सेवा पूर्व परीक्षा और केंद्रीय लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा पूर्व परीक्षा उत्तीर्ण किए और मुख्य परीक्षा की तैयारी करने वाले 100 छात्रों में से हरेक को मुख्य परीक्षा की तैयारी के लिए आवश्यक संदर्भ पुस्तकों की खरीदी के लिए हरेक को 5000 रुपये प्रोत्साहन निधि प्रदान करने की योजना प्रस्तुत है। सिविल सेवा पूर्व परीक्षा उत्तीर्ण कर प्रशासनिक अधिकारी बनने के लिए बड़ी संख्या में प्रयास करनेवालों छात्र हैं। बजट में यह उल्लेख किया गया है कि यह  योजना छात्रों के लिए एक बेहतर योजना है। इसके लिए समाज विकास विभाग ने वर्ष 2019-2020 के लिए बजट में युवा कल्याण योजना कोष के तहत 10.00 लाख का प्रावधान उपलब्ध कराया गया है।

दी जाएगी 5 हजार निधि

प्रस्ताव के अनुसार, जो  छात्र एमपीएससी और यूपीएससी पूर्व परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं और मुख्य परीक्षा के लिए अर्हता प्राप्त करते हैं, उन्हें पुस्तकों की खरीद के लिए वित्तपोषण योजना को लागू करने और इसके लिए रणनीतिक निर्णय लेने के लिए महिला एवं बाल कल्याण समिति के समक्ष यह प्रस्ताव रखा गया है। इसमें बदलाव करने के अधिकार मनपा कमिश्नर को है। करीब 100 छात्रों को 5 हजार की निधि दी जाएगी। महिला एवं बाल कल्याण समिति की मंजूरी मिलने के बाद उसे स्थायी समिति के समक्ष रखा जाएगा।