PMP

  • PUMTA की बैठक में निर्णय

पुणे. पुणे व पिंपरी चिंचवड की लाइफ लाइन कही जाने वाली सार्वजनिक परिवहन (PMP) अब पुणे व पिंपरी चिंचवड से बाहर महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (PMRDA) की सीमाओं तक दौड़ेगी। PMP बस सेवा का विस्तार करने का निर्णय पुणे एकीकृत महानगर परिवहन प्राधिकरण (PUMTA) की एक बैठक में लिया गया। इससे सम्बंधित मांग पीएमपी के अध्यक्ष व सीएमडी डॉ. राजेंद्र जगताप ने की थी। विभागीय आयुक्त सौरभ राव ने कहा कि नियोजित विकास योजना में पीएमआरडीए (PMRDA) को पीएमपी बस डिपो के लिए आरक्षण के साथ-साथ अन्य सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए। वर्तमान में, पीएमआरडीए जिले के अंतर्गत लगभग 840 गांव आते हैं।  

पीएमपी प्रशासन द्वारा की थी मांग

पुणे में और इसके आसपास सार्वजनिक परिवहन प्रणाली को बढ़ावा देने के अलावा, पुणे एकीकृत मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट एथॉरिटी की स्थापना विभिन्न परिवहन संबंधी समस्याओं को हल करने के लिए की गई है।  

चौथी बैठक आयोजित

चौथी बैठक अध्यक्ष और संभागीय आयुक्त राव की अध्यक्षता में हुई। इसमें यह निर्णय लिया गया। यह मांग पीएमपी प्रशासन द्वारा की गई थी। इस अवसर पर पुणे मनपा आयुक्त विक्रम कुमार, पिंपरी-चिंचवड़ आयुक्त श्रवण हार्डिकर, पुणे महानगर परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक डॉ राजेंद्र जगताप, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, पुणे स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉरपोरेशन  संजय कोलते, कार्यकारी निदेशक, महाराष्ट्र मेट्रो रेल, रामनाथ सुब्रमण्यम, मुख्य अभियंता, लोक निर्माण विभाग।  एस  सालुंखे उपस्थित थे। इससे अब पीएमपी को अपनी सेवा पीएमआरडीए की सीमा तक ले जाने में आसानी होगी। इसके अनुसार पीएमपी प्रशासन द्वारा तत्काल इसका नियोजन शुरू किया गया है।

पीएमआरडीए की सीमा तक पीएमपी चलाने को लेकर प्रशासन द्वारा तैयारी की जा रही है। पहले चरण में 12 नए रुट शुरू किए जा रहे हैं। जो ग्रामीण इलाकों तक जाएंगे। इसके साथ ही पीएमआरडीए इलाके में पीएमपी के लिए जरूरी बस स्टैंड के लिए जगह, उसका आरक्षण इन सभी को कब्जे में लेने की भी हमने तैयारी शुरू कर दी है।

– डॉ. राजेंद्र जगताप, अध्यक्ष व सीएमडी, पीएमपी