कोरोना काल में पुलिस का कार्य सराहनीय

  • पुलिस महासंचालक ने किया पुलिस म्यूजियम का उद्घाटन

पुणे. कोरोना काल में पुलिस द्वारा किया गया कार्य अतुलनीय है. इस महामारी के दौरान लोगों से जो अच्छी प्रतिक्रिया मिली है, उसी को ध्यान में रखकर हमें आगे भी काम करना है. यह अपील राज्य के पुलिस महासंचालक सुबोधकुमार जायसवाल ने पुलिस कर्मचारियों और अधिकारियों से की. वे पाषाण रोड स्थित पुलिस रिसर्च सेंटर में पुलिस म्यूजियम के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे. 

इस अवसर पर पुलिस रिसर्च सेंटर के परिसर में तैयार किए गए ‘कॉमन मैन-पुलिस मैत्री’ शिल्प का अनावरण भी जायसवाल के हाथों किया गया. उन्होंने आगे कहा कि जिस समय पुणे में डीजी कॉन्फरेंस हुई उस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलिस की इमेज को सुधारने का प्रयत्न करने की बात कही थी. उसके बाद ही हमने यह म्यूजियम तैयार करने का निर्णय किया और यह म्यूजियम तैयार हो गया. 

आम नागरिकों की शिकायत का निराकरण पुलिस को करना चाहिए

उन्होंने कहा कि मैं 1986 में पुलिससेवा में आया, लेकिन मैं बेसिक पुलिसिंग अभी तक नहीं भूला हूं. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में कानून व्यवस्था को संभालते हुए राज्य में 295 पुलिस कर्मचारियों और अधिकारियों की मृत्यु हो गई है. पुलिस लोगों की सेवा के लिए है यह बात हर पुलिसकर्मी को ध्यान में रखना चाहिए. आम नागरिकों की शिकायत का निराकरण और सहारा देने का काम पुलिस को करना चाहिए. इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस महासंचालक (प्रशिक्षण) संजयकुमार सिंह, अतुलचंद्र कुलकर्णी, अश्वती दोरजी, रिटायर्ड पुलिस महासंचालक वसंत सराफ, ऊषा लक्ष्मण, पुणे शहर के पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता, पिंपरी-चिंचचड़ के पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.

 पुस्तक का विमोचन 

कार्यक्रम के दौरान वसंत सराफ द्वारा लिखित ‘पोलिस नेतृत्वाची कला’, रिटायर्ड विशेष पुलिस महानिरीक्षक प्रकाश मुत्याल द्वारा लिखित‘गुणवत्तापूर्ण तपासाची चेकलिस्ट’ विशेष सरकारी वकील एड. शिशिर हिरे द्वारा लिखित‘ आर्थिक गुन्हे का?, कसे? और उपाय’ पुस्तक का विमोचन जायसवाल के हाथों किया गया. ऊषा लक्ष्मण ने कहा कि पुलिस जनता की सेवा के लिए सदैव तत्पर होती है. कोविड काल में पुलिस द्वारा किए गए कार्य निश्चित रुप से उल्लेखनीय है. आर.के. लक्ष्मण राजनैतिक कार्टून के कारण प्रसिद्ध हुए फिर भी उन्होंने पुलिस द्वारा जनता की ओर देखने के नजरिए का निरीक्षण कर अच्छी प्रकार से अपने कार्टून में उतारा है.

 समाज को सजग करना आवश्यक  

आर.के लक्ष्मण की जन्मशताब्दी निमित्त यह पुलिस और कॉमन मैन को दिया गया सम्मान है. एड. शिशिर हिरे ने कहा कि जमीन की खरीद-फरोख्त में आर्थिक धोखाधड़ी ज्यादा होती है. भविष्य की पीढ़ी उन्हें अपना आदर्श मानकर उनकी ओर देखती है, यह सबसे बड़ी चुनौती है. इसलिए समाज को सजग करना आवश्यक है. कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन पुलिस प्रशिक्षण प्रबोधिनी के पुलिस अधिक्षक शिरीष सरदेशपांडे ने व्यक्त किया.