किसानों को पर्याप्त और समय रहते ऋण मुहैया कराए

– जिलाधिकारी नवलकिशोर राम के निर्देश

पुणे. कोरोना संकट के दौरान लगाए गए लॉकडाउन की स्थिति में किसानों की हालत पहले से भी ज्यादा खस्ता हो गई है. खरीफ फसल का मौसम शुरू हो चुका है. ऐसे में किसानों को राहत दिलाने के लिए उन्हें पर्याप्त मात्रा में तथा जल्द से जल्द ऋण मुहैया करवाए, ऐेसे निर्देश जिलाधिकारी नवलकिशोर राम ने दिए.

किसानों के कर्ज वितरण के संदर्भ में जिले के बैंकरों की एक मिटिंग जिलाधिकारी नवलकिशोर राम की अध्यक्षता में आयोजित की गई. इस बैठक में जिला अग्रणी बैंक के प्रबंधक आनंद बेडेकर, नाबार्ड के उप महाप्रबंधक नितिन शेलके, जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी बालासाहब पलघडमल समेत विभिन्न बैंकों के अधिकारी उपस्थित थे. 

ऋण मुहैया कराने को लेकर सकारात्मक रुख रखें

जिलाधिकारी ने कहा कि खरीफ के मौसम के लिए किसानों कर्ज मिलना काफी आवश्यक है. ऐसे में सभी बैंक किसानों को ऋण मुहैया कराने को लेकर सकारात्मक रुख रखें. महात्मा फुले किसान कर्ज मुक्ति योजना का सरकारी स्तर पर जायजा लिया जा रहा है. बैंक भी इस योजना के संदर्भ में सतर्क रहें. कृषि ऋण के अलावा बैंक स्वरोजगार के लिए दिए जाने वाले ऋण की आपूर्ति को भी बढ़ाएं. प्रधानमंत्री रोजगार निर्मिती कार्यक्रम में जिले की बैंकों द्वारा और अच्छा काम करने की अपेक्षा है, ऐसा जिलाधिकारी ने कहा.

मुद्रा योजना ऋण में पुणे नंबर-1 रहा

उन्होंने कहा कि मुद्रा योजना के ऋण वितरण में वर्ष 2019-20 के आर्थिक वर्ष में पुणे जिला राज्य में पहले नंबर रहा है. जिले में करीब 2 लाख 37 हजार 268 लाभार्थियों को अब तक 22 अरब 9 करोड़ 75 लाख रुपयों का कर्ज वितरण किया गाय है. इसके लिए सभी बैंक अभिनंदन के पात्र है. मुद्रा योजना और स्टैण्ड अप इंडिया योजना के लाभार्थियों की यशोगाथा लोगों तक पहुंचनी चाहिए. जिससे स्वयंरोजगार में बाकी लोगों को भी प्रेरणा मिले.