ऑक्सीजन पहुंचानेवाले वाहनों के लिए टोल नाकों पर अलग लेन प्रदान करें

पुणे. कोविड-19 उपचार के दौरान मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति महत्वपूर्ण है और बढ़ते मामलों के चलते पुणे जिले में इसकी मांग काफी बढ़ गई है. आपूर्ति की कमी की शिकायतों के साथ, सरकारी तंत्र ने विभिन्न कोविड-19 अस्पतालों को चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति को नियमित करने पर ध्यान केंद्रित किया है. इस कड़ी में पुणे के जिलाधिकारी राजेश देशमुख ने प्रशासन को निर्देश दिया है कि वे टोल प्लाजा पर ऑक्सीजन पहुंचानेवाले वाहनों के लिए लेन खुली रखें और ऐसे वाहनों को बीकन (सायरन लाइट) प्रदान करें.

उपमुख्यमंत्री ने दिए थे निर्देश

जिलाधिकारी राजेश देशमुख ने एक नोटिस जारी किया है जिसमें कहा गया है कि उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने निर्देश दिया था कि ऑक्सीजन पहुंचाने वाले वाहनों को बीकन प्रदान किया जाएगा. एम्बुलेंस की तरह ये वाहन ऑक्सीजन के त्वरित परिवहन के लिए बीकन का उपयोग कर सकते हैं. जिलाधिकारी ने क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) को निर्देश दिया है कि ऐसे वाहनों को बीकन प्रदान करने के लिए सभी आवश्यक अनुमति प्रदान करें. इस तरह के वाहनों से स्रोत से शेयर तक निर्बध आवाजाही के लिए सायरन के उपयोग की अनुमति दें.

वाहनों पर जीपीएस सिस्टम लगाने के निर्देश

जिलाधिकारी ने सभी ऑपरेटरों को ऐसे वाहनों पर एक जीपीएस सिस्टम लगाने का निर्देश दिया, ताकि पुलिस वाहनों को सटीक स्थान पर ट्रैक कर सके. पुलिस से कहा गया है कि वे टोल ऑपरेटरों को ऑक्सीजन से चलने वाले वाहनों के लिए अलग लेन खोलने का निर्देश दें और सुनिश्चित करें कि वे टोल प्लाजा पर ट्रैफिक व्यवस्था में न फंसें. ऐसे वाहन मालिकों और ऑक्सीजन उत्पादक उद्योग को निर्देश दिया कि वे 3 शिफ्टों में ड्राइवरों की प्रतिनियुक्ति करें क्योंकि वाहन 24 घंटे उद्योग से अस्पतालों की ओर बढ़ते रहते हैं.