पुणे शहर पुलिस की कमान अमिताभ गुप्ता के हाथ

  • डॉ. अभिनव देशमुख पुणे जिला पुलिस अधीक्षक नियुक्त

पुणे. राज्य सरकार ने आईपीएस अधिकारियों के तबादले के दूसरे चरण को मंजूरी दे दी है. बीती रात गृह विभाग के प्रधान सचिव (विशेष) अमिताभ गुप्ता समेत 50 से ज्यादा आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया गया है. गुप्ता अब पुणे शहर के नए पुलिस आयुक्त होंगे. पुणे पुलिस आयुक्त डॉ. के. वेंकटेशम का तबादला अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (विशेष अभियान) के रूप में किया गया है. वहीं पुणे जिला (ग्रामीण) पुलिस बल की कमान डॉ. अभिनव देशमुख को सौंपी गई है. डॉ. देशमुख कोल्हापुर पुलिस के जिला अधीक्षक थे. पुणे जिला पुलिस अधीक्षक संदीप पाटिल को नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली परिक्षेत्र के उपमहानिरीक्षक नियुक्त किया गया है.

41 आईपीएस की नई तैनाती

गुरुवार देर शाम जारी सरकारी आदेश के मुताबिक 41 आईपीएस अधिकारियों को नई तैनाती दी गई है जबकि बाकी अधिकारियों को अभी नई तैनाती नहीं मिली है. पुणे के पुलिस आयुक्त के. वेंकटेशम का तबादला अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (विशेष अभियान) के रूप में किया गया है. उनकी जगह पर गृह विभाग के प्रधान सचिव (विशेष) अमिताभ गुप्ता का तबादला किया गया है. गुप्ता इसी साल सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने कोरोनाकाल में यस बैंक और पंजाब एवं महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक से जुड़े घोटालों को लेकर छानबीन के दायरे में आए दो कारोबारी भाइयों- कपिल और धीरज वधावन को पुणे के पास खंडाला से सातारा जिला स्थित महाबलेश्वर जाने की अनुमति दी थी.

वधावन ब्रदर्स मामले में क्लीन चिट

करप्शन केस के दोनों संदिग्ध भाइयों को ट्रैवल परमिट दिए जाने के मामले पर हंगामा मचने के बाद गुप्ता को अनिवार्यत: अवकाश पर भेज दिया गया था. हालांकि, बाद में एक समिति, जिसने जांच में उन्हें क्लीन चिट दे दी थी, की सिफारिश पर उनका अवकाश रद्द कर दिया गया. अब उन्हें पुणे शहर पुलिस की कमान सौंपी गई है. उनसे पहले के आयुक्त डॉ. के. वेंकटेशम ने पुणे में पदभार संभालने के साथ कई नए उपक्रमों की शुरुआत की. सालों से धूल फांक रही शिकायतों की फाइलों का निपटारा किया. उनके द्वारा शुरू की गई टीआरएम मीटिंग और सेवा उपक्रम तो पुणे समेत पूरे राज्य पुलिस बल में गूंजी. सेवा उपक्रम का सबसे ज्यादा लाभ शिकायतकर्ताओं और उनके बाद पुलिस अधिकारियों को मिला. भरोसा सेल जैसे उपक्रम के अलावा पुणे की अनुशासन हीन ट्रैफिक को अनुशासन बद्ध बनाने के लिए भी उन्होंने कई योजनाएं शुरू की. उन्हीं की बदौलत पुणे ट्रैफिक पुलिस विभाग को अपर आयुक दर्जे का अधिकारी मिल सका.

गढ़चिरौली भेजे गए संदीप पाटिल

दो सितंबर को गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आईपीएस अधिकारियों के तबादले के आदेश के अनुसार पुणे जिला पुलिस अधीक्षक संदीप पाटिल को नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली परिक्षेत्र के उपमहानिरीक्षक पद पर तबादला दिया गया. पुणे से पहले पांच सालों तक वे गढ़चिरौली में ही तैनात थे औऱ वहां उनके द्वारा शुरू किए गए पुस्तक दान उपक्रम को भारी तवज्जो मिली थी. गढ़चिरौली ने नक्सलवाद के उच्चाटन के लिए भी उन्होंने कई सफल अभियान चलाये. दो साल पहले पुणे जिला पुलिस की कमान संभालने के बाद यहां भी स्मार्ट पुलिसिंग जैसे कई उपक्रम चलाये. तबादले के दौरान उन्होंने खुद से गढ़चिरौली में नियुक्ति की मांग की थी, ऐसा उन्होंने एक साक्षात्कार में बताया.

नक्सल प्रभावित क्षेत्र में काम कर चुके हैं देशमुख

अब उनकी जगह पुणे जिला पुलिस अधीक्षक पद पर कोल्हापुर जिला अधीक्षक डॉ अभिनव देशमुख का तबादला किया गया है. कोल्हापुर आने से पहले वे भी गढ़चिरौली.के तैनात थे. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में किये गए उल्लेखनीय कार्य की दखल खुद केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने ली. कोल्हापुर में कार्यरत रहते उन्हें केंद्रीय गृह मंत्रालय का आंतरिक सुरक्षा सेवा मेडल घोषित किया गया. कोल्हापुर में भी उन्होंने काफी उल्लेखनीय काम किया है.