voting
File Photo

पुणे. एनसीपी ने अरुण लाड को पुणे स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा है. इसके अनुसार अब  एनसीपी के अरुण लाड, भारतीय जनता पार्टी के संग्राम सिंह देशमुख और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की रूपाली पाटिल के बीच पुणे स्नातक सीट के लिए मुकाबाला होगा. 

इससे यह स्पष्ट हो गया है कि पुणे में चुनाव त्रिशंकु होगा. शिवसेना ने अभी तक इस संबंध में अपनी स्थिति साफ नहीं की है. लाड और देशमुख सांगली से हैं और पाटिल पुणे से हैं.

 चंद्रकांत पाटिल की प्रतिष्ठा दांव पर

नामांकन के बाद तीनों दलों के उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है. मनसे की रूपाली पाटिल ने हाल ही में सतारा के सांसद उदयन राजे भोसले से मुलाकात की.  इसी तरह, उन्होंने कोल्हापुर में छत्रपति संभाजी महाराज से मुलाकात की. उन्होंने निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव प्रचार का पहला दौर पूरा कर लिया है.  भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने संग्राम सिंह देशमुख के अभियान के लिए पुणे में एक रैली का आयोजन किया है. इसमें वह कार्यकर्ताओं से बातचीत करेंगे. गुरुवार को स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के लिए नामांकन दाखिल करने के बाद 13 नवंबर को स्क्रूटनी हो गई है. पुणे चुनाव के लिए चंद्रकांत पाटिल की प्रतिष्ठा दांव पर है. चूंकि पार्टी ने इस चुनाव के लिए पुणे शहर से कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है, इसलिए चुनाव के नतीजों को लेकर उत्सुकता पैदा हो गई है.

मतदाताओं की संख्या बढ़ी

पुणे स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में लगभग साढ़े पांच लाख मतदाता हैं, जिनमें से पुणे में मतदाताओं की संख्या सबसे अधिक है. इसके बाद सांगली, कोल्हापुर, सतारा और सोलापुर है. चूंकि इस बार मतदाताओं की संख्या बढ़ी है, ऐसे संकेत हैं कि मतदान भी बढ़ेगा. भारतीय जनता पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने अधिक से अधिक मतदाताओं को वोट देने के लिए प्रयास शुरू कर दिए हैं.