मनपा की तिजोरी में राजस्व का इजाफा, टैक्स से अब तक मिले 895 करोड़

  • अभय योजना से 47 करोड़ की आय
  • 21 हजार 111 लोगों ने उठाया योजना का लाभ

पुणे. स्थायी समिति ने टैक्स वसूली के लिए अभय योजना लागू की है. इस पर प्रभावी तरीके से अमल हो, इसलिए टैक्स विभाग को अतिरिक्त कर्मी मुहैया कराए गए हैं. 2 अक्टूबर से अब तक महापालिका को इसके तहत करीब 47 करोड़ 47 लाख का टैक्स मिला है. करीब 21 हजार 111 लोगों ने इस योजना का लाभ उठाया है. इस बीच अप्रैल माह से अब महापालिका तिजोरी में टैक्स की माध्यम से करीब 895 करोड़ की आय जमा हुई है. विगत साल इसी दिन 923 करोड़ का टैक्स मिला था. ऐसी जानकारी महापालिका टैक्स विभाग द्वारा दी गई. कोरोना कालावधि में यह अच्छी आय मानी जा रही है. 

स्थायी समिति ने लागू की है अभय योजना 

टैक्स पर 3 गुना जुर्माना और जुर्माना से टैक्स बकाया में भारी वृद्धि हुई है. पिछले साल की बारिश की पृष्ठभूमि और इस साल कोरोना के प्रकोप के कारण हुई आर्थिक तंगी के चकते बकाया राशि वसूलने के लिए बकाया राशि पर लगाए गए 2 प्रतिशत जुर्माने पर 80 प्रतिशत छूट दी जानी चाहिए. इसके लिए स्थायी समिति सदस्यों ने 2 अक्टूबर से 30 नवंबर तक टैक्स अभय योजना लागू करने का प्रस्ताव दिया था. इस बीच, स्थायी समिति की बैठक में एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के सदस्यों ने सभी बकाया राशि को रसहूलियत देने का विरोध किया था. उन्होंने एक स्टैंड लिया कि ये छूट उन लोगों को नहीं दी जानी चाहिए जो ईमानदार करदाताओं के साथ अन्याय करके करोड़ों रुपये के बकाया हैं. इसके बदले 50 लाख रुपये तक के बकाये पर रियायत दी जानी चाहिए. इसके अनुसार इस प्रस्ताव को स्थायी समिति ने मंजूरी दी थी. इसके अनुसार इस योजना को खासा प्रतिसाद मिल रहा है. 

22 करोड़ की सहूलियत महापालिका ने दी   

अभय योजना पर प्रभावी तरीके से अमल हो इसके लिए टैक्स विभाग को अतिरिक्त कर्मी मुहैया कर दिए है. क्योंकि महापालिका को इस माध्यम ज्यादा आय कमानी है. इसके अनुसार योजना को खासा प्रतिसाद दिख पाया है. 2 अक्टूबर के अब तक तक महापालिका को इस योजना तहत सिर्फ 47 करोड़ 57 लाख का टैक्स मिला. करीब 21 हजार 111 लोगों  ने इस योजना का लाभ उठाया है. प्रशासन के अनुसार अभय योजना के तहत करीब 22 करोड़ की सहूलियत महापालिका द्वारा दी गई है. इस बीच महापालिका को टैक्स से अप्रैल माह से अब तक कुल 895 करोड़ की राशि मिल चुकी है. करीब 6 लाख 15 हजार लोगों ने टैक्स का भुगतान किया है.  मनपा प्रशासन की माने तो विगत साल इसी दिन टैक्स से महापालिका को 923 करोड़ मिले थे. इस साल कोरोना का कहर होने के बावजूद भी विगत साल के अनुपात में सिर्फ 27 करोड़ कम मिले है. इस वजह से यह अच्छी आय मानी जा रही है. 

 अभय योजना से 700 करोड़ कमाने का लक्ष्य 

इस बारे में स्थायी समिति के अध्यक्ष हेमंत रासने ने कहा कि अभय योजना के माध्यम से 700 करोड़ कमाने का लक्ष्य हमने रखा है. साथ ही शहर की सभी प्रोपर्टिया टैक्स के नीचे लाने के लिए हम प्रयास कर रहे है. उसके माध्यम से 300 करोड़ मिल सकते है. ऐसे अतिरिक्त 1 हजार करोड़ हम कमाएंगे. रासने के अनुसार उसके लिए टैक्स विभाग को हमने अतिरिक्त 400 कर्मियों की फ़ौज दे दी है. साथ ही अभय योजना को ज्यादा से ज्यादा प्रतिसाद मिलने के लिए अच्छी तरह से जनजागृति की जा रही है. साथ ही हम प्रशासन के साथ लगातार बैठकें ले रही है. शनिवार को ली गई बैठक में हमने प्रशासन से निर्देश दिए कि 50 लाख से ज्यादा राशि बकानेवालों पर कार्रवाई करना शुरू करें. उसके अनुसार प्रशासन ने तैयारी की है. इसका ब्यौरा लेने के लिए आगामी हफ्ते में प्रशासन के साथ फिर बैठक करेंगे. 

अभय योजना और प्रॉपर्टी असेसमेंट के तहत  अतिरिक्त 1 हजार करोड़ हम कमाएंगे. उसके लिए टैक्स विभाग को हमने अतिरिक्त 400 कर्मियों की फ़ौज दी है. साथ ही अभय योजना को ज्यादा से ज्यादा प्रतिसाद मिलने के लिए अच्छी तरह से जनजागृति की जा रही है. हमने प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि 50 लाख से ज्यादा राशि बकाए वालों पर कार्रवाई करना शुरू करें. -हेमंत रासने, अध्यक्ष, स्थायी समिति, पुणे मनपा