अनलॉक 2.0 में बढ़ सकता है कोरोना का खतरा, जुलाई अंत तक 10 हजार होगी संक्रमितों की संख्या!

– मनपा आयुक्त श्रवण हर्डिकर ने जताई चिंता

– झोपडपट्टियों में तेजी से बढ़ रहे मरीज 

 पिंपरी. पिंपरी-चिंचवड की झोपडपट्टियों में कोरोना मरीजों संख्या तेजी से बढ़ रही है तथा पांच झुग्गियों में 30 से अधिक मरीज हैं. करीब 1400 मरीज झोपडपट्टियों के ही हैं. वर्तमान में कोरोना के मरीजों की संख्या दोगुनी होने में 14 दिन लग रहे हैं. अगर यही दर कायम रही तो जुलाई के अंत तक शहर में रोगियों की संख्या 10 हजार तक पहुंच जाएगी. यह आशंका पिंपरी मनपा आयुक्त श्रवण हर्डिकर ने जताई.

ठीक होनेवाले रोगियों की संख्या 60 प्रतिशत होगी

आयुक्त ने कहा कि इसमें तीन से साढे तीन हजार सक्रिय मरीज होंगे तथा ठीक होने वाले रोगियों की दर 55 से 60 फीसदी तक रहेगी. मनपा आयुक्त द्वारा जून के आखिर तक मरीजों की संख्या 3,000 तक पहुंचने की आशंका जताई गई थी, जो सही साबित होती दिख रही है. क्योंकि वर्तमान में शहर के रोगियों की संख्या 2274 तक पहुंच गई है. इसी पृष्ठभूमि पर हर्डिकर ने कहा कि मरीजों की संख्या दोगुनी होने की अवधि 15 दिन की रही तो जुलाई के अंत तक साढे दस हजार मरीज हो जाएंगे. फिलहाल तो कोरोना के मरीजों की संख्या दोगुनी होने में 14 दिन लग रहे हैं.

डबलिंग रेट सुधारना होगा

कंटेन्मेंट क्षेत्रों में सुधार हुआ तो 7 से साढे़ सात हजार तक संख्या पहुंच जाएगी. यदि मरीजों की संख्या दोगुनी होने की रफ्तार 14 दिनों की ही रही तो 18 जुलाई को ही रोगियों की तादात बढ़कर 8000 हो जाएगी, लेकिन एक्टिव मरीज कम होंगे. यानी करीब तीन से साढे तीन हजार सक्रिय मरीज होंगे. मरीजों की रिकवरी दर अधिक यानी 55 से 60 प्रतिशत है.

झोपड़पट्टियों में बढ़ रहे मरीज 

पिंपरी क्षेत्र की पुरानी झोपड़पट्टियों में सबसे ज्यादा मरीज बढ़ रहे हैं. दापोडी, नेहरूनगर, विट्ठलनगर, भाटनगर, बौद्धनगर, आनंदनगर, साईं बाबानगर व अजंठानगर में पिछले 2 दिनों में मरीजों की संख्या में वृद्धि पाई गई. मिलिंदनगर, वेतालनगर में भी मरीज पाए गए हैं, लेकिन इन इलाकों में बडे़ पैमाने में संक्रमण नहीं है. विट्ठलनगर की एक बिल्डिंग में अधिक मरीज पाए गए हैं. 2 दिनों में रोगियों की संख्या 45 हो गई है. अजंठानगर में 200 और आनंदनगर में भी 200 से अधिक मरीज पाए गए हैं.