President Pradeep Walhekar

    पुणे. बालू (Sand), क्रश सैंड(Crush Sand), सीमेंट (Cement) के साथ-साथ ईंधन की कीमत में वृद्धि की वजह से अब रेडी मिक्स कॉंक्रीट की कीमत बढ़ाने की मांग पुणे आरएमसी एसोसिएशन (Pune RMC Association) ने की है। इस मांग को लेकर मंगलवार से शहर में 150 आरएमसी प्लांट अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया है। पुणे आरएमसी एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रदीप वाल्हेकर (President Pradeep Walhekar) ने आरएमसी बिजनेस मैन की दिक्कतों की जानकारी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी।  

    इस मौके पर तानाजी वाघोले, सचिन काटे, प्रीतम गंजेवार, चैतन्य रायसोनी, नरेंद्र पासलकर, विक्रम धुत, नरेंद्र महाजन, युसूफ इनामदार, मछिन्द्र सातव आदि उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि, शहर के साथ चाकण, भोसरी, मोशी, वाघोली, हड़पसर, कोंढवा, कात्रज, चांदनी चौक, बावधन, बाणेर, वाकड, तलेगांव, मावल क्षेत्र में रेडी मिक्स कॉंक्रीट (आरएमसी) तैयार करने वाले 150 प्लांट है। इन बिजनेसमैन को महंगाई का झटका लगा है। इस वजह से आरएमसी के प्रति क्यूबिक मीटर की दर बढ़ाने की मांग उन्होंने की है।  

    उन्होंने बताया कि, फ़िलहाल इन दरों का प्रमाणीकरण नहीं हुआ है। उसे एक जैसा करने का काम संगठन ने शुरू किया है। इसके अनुसार दिल मिलना चाहिए।  यह दलील वाल्हेकर ने दी है। आरएमसी की कीमत ग्रेड दर पर तय की जाती है। फ़िलहाल एम 20, इस ग्रेड की आरएमसी के प्रति क्यूबिक मीटर पर 5200 रुपए की कीमत मिलनी चाहिए। इसकी तुलना में अच्छी ग्रेड आरएमसी के हिसाब से कीमत वृद्धि मिलने की उम्मीद है। हाल ही में एसोसिएशन की बैठक संपन्न हुई है, जिसमें प्लांट बंद करने का निर्णय लिया गया।

    पिछले एक सप्ताह से जिले के एक स्टोन क्रशर से होने माल की सप्लाई बंद है और बालू की कीमत बढ़ गई है। इसकी वजह से आरएमसी प्लांट के उत्पादन में बाधा आ रही हैं। डीजल की कीमत में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है। पिछले तीन वर्षो में डीजल, पेट्रोल, रॉयल्टी, बिजली में भारी बढ़ोतरी हुई है। इसके साथ ही गाड़ियों और मशीनों की केयरिंग-रिपेरिंग का खर्च और कर्मचारियों का भी वेतन बढ़ा है। इसलिए उत्पादन महंगा पड़ रहा है। इस वजह से अब रेडी मिक्स कॉंक्रीट की कीमत बढ़ाने की मांग की गई है।