CHOTA-RAJAN

    पिंपरी. कोरोना ने समूचे देशभर खासकर पुणे जिला और पुणे व पिंपरी-चिंचवड़ शहरों में आतंक मचाकर रखा हुआ है। महामारी के दूसरे दौर में मरीजों और मृतकों की संख्या में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। बढ़ती मौतों के बीच कुछ दिन पहले अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन (Underworld Don Chhota Rajan) की कोरोना (Corona) से दिल्ली के एम्स में इलाज के दौरान मौत (Death) के खबर की अफवाह (Rumor) फैली। ब्रेकिंग न्यूज (Breaking News) की होड़ में सोशल मीडिया (Social Media) से इस खबर की पोस्ट तेजी से वायरल (Viral) हो गई। हालांकि चंद घंटों में यह खबर अफवाह साबित हुई,लेकिन तब तक फेसबुक, व्हाट्सएप पर नामी- गिरामी मीडिया की खबरों की लिंक पर देशभर से ‘लाडले’ डॉन को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करने की होड़ मच गई। उसमे पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ से श्रद्धा सुमन अर्पित करनेवाले भी पीछे न थे। ऐसे में अंडरवर्ल्ड का पिंपरी चिंचवड़ में ‘अंडर करंट’ ढूंढ निकालने की सही मायने में आवश्यकता बन गई है।

    अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की कोरोना से मौत की खबर के अफवाह साबित होने तक फेसबुक पर मीडिया की न्यूज़ लिंक्स पर डॉन को श्रद्धांजलि अर्पित करनेवालों का तांता लग गया। “नाना भावपूर्ण श्रद्धांजलि” “नाना नमन” “देश विरोधी आतंकवादी का विश्व स्तर पर मुंहतोड़ जवाब देनेवाले को मातृभूमि में कोरोना ने अपनी चपेट में ले लिया” इस तरह की कई पोस्ट फेसबुक और व्हाट्सएप पर वायरल होते रहे। जितनी तत्परता से मौत के खबर की पोस्ट वायरल हुई उतनी ही तत्परता से ये खबर सिर्फ अफवाह है, यह जानकारी भी पिंपरी-चिंचवड़ के ‘सीआर कनेक्ट’ लोगों ने संबंधितों तक पहुंचाई। हालांकि डॉन की मौत की खबर अफवाह साबित होने के बाद कइयों ने पोस्ट डिलीट भी कर दिये। मगर इससे छोटा राजन के पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ में कितने समर्थक व चाहनेवाले हैं? यह साफ हो गया है। 

    पिंपरी-चिंचवड़ का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन काफी पुराना

    पिंपरी-चिंचवड़ का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन काफी पुराना है। मगर शहर में अंडरवर्ल्ड के कंपनी कनेक्ट लोग आज भी पुलिस या जांच एजेंसियों की नजर में नहीं आ सके है। न ही कभी पुलिस ने खुद जागरूक होकर किसी ऐक्शन की भूमिका निभाने की कोशिश की। पिंपरी-चिंचवड़ में अंडरवर्ल्ड कनेक्शन से जमीन की सौदेबाजी, कब्जा, अपहरण, हत्या, ऐसे मामलों में गिरफ्तार किए गए लोग और उनके समर्थक अभी क्या करते हैं, कहां रहते हैं? यह खंगालने की कोशिश भी कभी पुलिस या जांच एजेंसियों द्वारा नहीं की जाती। शहर में डॉन के बर्थडे पर खुलेआम ‘सेलिब्रेशन’ करनेवाले लोग भले ही ज्यादा न हो, लेकिन डॉन के खास नँबर पर फोन कर बर्थडे विश करनेवाले कई लोग हैं। इसमें राजनेता, बिल्डर, कारोबारी, पुलिस अधिकारी सहित कई ‘दिग्गज’ भी शामिल हैं।