शिवाजीनगर-रामवाड़ी मेट्रो मार्ग को मिलेगी गति

  • 5 हजार वर्ग मीटर जमीन हस्तांतरण का आदेश

पुणे. पुणे मेट्रो परियोजना के शिवाजी नगर से रामवाड़ी मार्ग के लिए येरवडा स्थल पर एक बड़ी बाधा को दूर कर दिया गया है. इससे अब इस काम को गति मिलेगी. 

मुंबई उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को येरवडा में 5,000 वर्ग मीटर भूमि महाराष्ट्र मेट्रो रेलवे कॉरपोरेशन (महामेट्रो) को पखवाड़े के भीतर  हस्तांतरित करने का आदेश दिया. इससे मेट्रो काम की और एक बाधा दूर हो गई है.

हाई कोर्ट में था मामला

मेट्रो प्रोजेक्ट के शिवाजी नगर से रामवाड़ी मेट्रो लाइन का काम फिलहाल जोरों पर है. एक भूमि विवाद के कारण येरवडा के पास कल्याणी नगर से मार्ग पर काम रुका हुआ था. यहां एक अदालत में विवाद लंबित था. जगह सरकार के स्वामित्व में है. हालांकि, निजी व्यक्तियों और संगठनों द्वारा दावा किया गया था कि जमीन हमारी है. जगह की कमी के कारण, महामेट्रो येरवडा में पर्णकुटी चौक तक काम नहीं कर सकता था. मेट्रो ने उच्च न्यायालय से अनुरोध किया था कि वह साइट को तुरंत उपलब्ध कराए, क्योंकि मेट्रो की तरह एक परियोजना नागरिकों के हित में है. याचिकाकर्ताओं ने अदालत से कहा कि उन्हें मेट्रो के लिए आवश्यक 5,000 वर्ग मीटर जगह आवंटित करने में कोई आपत्ति नहीं है. इसलिए, मुख्य स्थान को अगले 15 दिनों के भीतर महामेट्रो को हस्तांतरित किया जाना चाहिए, ऐसे आदेश मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और जी. एस  कुलकर्णी की बेंच ने दी है.

काम में आयी थी रुकावट

जिलाधिकारी के माध्यम से महामेट्रो  द्वारा जमीन लेने के तुरंत बाद अधूरा काम शुरू हो जाएगा. इस जगह पर कब्जा न होने के कारण, मेट्रो के 300 मीटर के काम में गतिरोध आ गया था. कल्याणी नगर और येरवडा  के बीच सड़क को जोड़ने का काम रोक दिया गया था. अदालत के आदेश ने समस्या को दूर कर दिया है और यहां नौ स्तंभों को खड़ा करने की प्रक्रिया में तेजी लाई जाएगी. ऐसा वरिष्ठ महामेट्रो अधिकारियों ने कहा.