ड्रग्स फैक्ट्री शुरू करना चाहते थे तस्कर!

  • स्वघोषित डॉक्टर समेत 6 और गिरफ्तार

पिंपरी. दो माह पहले पुणे जिले के खेड़ तालुका के चाकण में 20 करोड़ रुपए की 20 किलो मेफेड्रोन (MD) ड्रग्स पकड़ने के बाद जारी इन्वेस्टिगेशन में आए दिन नए खुलासे हो रहे हैं। ताजा खुलासे के अनुसार इस मामले में गुजरात कनेक्शन सामने आया है। इन्वेस्टिगेशन के तीसरे चरण में ड्रग्ज बनाने की ट्रेनिंग देने वाले स्वघोषित डॉक्टर समेत 6 आरोपियों को मुंबई और गुजरात से गिरफ्तार किया गया है। इसमें ड्रग्ज बनाने की फैक्ट्री शुरू करने के लिए जगह, केमिकल, कच्चा माल और ट्रांसपोर्टेशन की सुविधा उपलब्ध कराने वालों का समावेश है।

अब नजर सप्लाई और सेवन करने वालों पर

पिंपरी चिंचवड़ के पुलिस आयुक्त कृष्णप्रकाश ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि दो माह पहले उजागर किए गए इस मामले में अब तक की जांच में हमारी प्राथमिकता एमडी या म्याऊ-म्याऊ ड्रग्स बनाने वाली फैक्टरियों को ध्वस्त करना और उनका संचालन करने वालों को दबोचना था। अब हमारी जांच उन फैक्ट्रियों में तैयार की गई ड्रग्स की सप्लाई करने वालों और उसका इस्तेमाल करने वालों को बेनकाब करने की दिशा में शुरू हो गई है। इस मामले का गुजरात और मुंबई कनेक्शन उजागर होने से सप्लाई और सेवन करने वालों के रैकेट में बॉलीवुड से लेकर अन्य बड़ी हस्तियों के नाम बाहर आने की संभावना उन्होंने जताई है।

गुजरात में जा छिपे थे 6 आरोपी

एमडी ड्रग्स को इन्वेस्टिगेशन के तीसरे चरण में परशुराम भालचंद्र जोगल (44) ठाणे, मंदार बलीराम भोसले (49)ठाणे, राम मनोहरलाल गुरबानी (43) वेस्ट मुंबई, अरविंद कुमार प्रकाशचंद लोहरे (39) ओशिवरा मुंबई (मूल निवासी जटनगला, बडकेली, मुजफरनगर उत्तर प्रदेश), मनोज एकनाथ पालांडे (40) गणेश नगर वरसे, निवासी रोहा, रायगढ़, अफजल हुसैन अब्बास सुणसरा (52) जोगेश्वरी वेस्ट मुंबई (मूल निवासी मेहता, बडगाम, बनासकाठा, उत्तर गुजरात) का समावेश है। ये सभी आरोपी पिंपरी चिंचवड़ पुलिस द्वारा उनके साथियों को गिरफ्तार किए जाने के बाद पकड़े जाने के डर से गुजरात भाग गए थे। वहां ये एमडी ड्रग्स बनाने की फैक्टरी शुरू करने वाले थे, ऐसा जांच में सामने आया है।

नाइजेरियन व्यक्ति समेत कुल 20 गिरफ्तार

इन गिरफ्तारियों के बाद इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों की संख्या 20 हो गई है। इससे पहले चेतन फक्कड दंडवते (28) मलठण-आंब्रेबस्ती, शिरुर, आनंदगीर मधुगिर गोसावी (25) जलगांव, अक्षय शिवाजी काले (25) पाचर्णे मला, शिरुर, संजीव कुमार बन्सी राऊत (44) झारखंड, तौसिफ हसन मोहम्मद तस्लीम (31) मुजफ्फरनगर को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद इस मामले के मुख्य सूत्रधार तुषार सूर्यकांत काले (बोरिवली) और राकेश श्रीकांत खानिवडेकर उर्फ रॉकी (वसई) के साथ नायजेरियन नागरिक झुबी इफनेयी उडोको को गिरफ्तार किया गया था।

35 लाख रुपए देकर ली थी ट्रेनिंग

पिंपरी चिंचवड़ पुलिस द्वारा 7 अक्टूबर को चाकण में उजागर किये एमडी ड्रग्स मामले के मुख्य सूत्रधार तुषार काले और राकेश खानीवडेकर ने मंदार भोसले, परशुराम जोगल और मनोज पालांडे की मदद से स्वघोषित डॉक्टर अरविंद कुमार से ड्रग्ज बनाने की ट्रेनिंग ली थी। यह ट्रेनिंग कर्जत के डोंगरगांव में एड। जोशी नामक व्यक्ति के फार्म हाउस में दी गई थी। इस ट्रेनिंग के लिए उसने 35 लाख रुपए का मेहनताना लिया था। अरविंद के खिलाफ इगतपुरी नासिक में ड्रग्स बनाने को लेकर मामला दर्ज है। मंदार, परशुराम और मनोज ने तुषार और राकेश को फैक्ट्री के लिए जगह, कच्चा माल और तैयार ड्रग्स की ट्रांसपोर्टेशन और राम गुरबाणी और अफजल अब्बास ने ट्रेनिंग में तैयार की गई 15 किलो एमडी ड्रग्स की बिक्री में मदद की है।

मंदार की महाड़ एमआईडीसी में अल्केमी और मनोज की निंबस फार्मा नामक कंपनियां हैं। इन कंपनियों और फार्म हाउस में ट्रेनिंग लेने के बाद तुषार और राकेश ने रांजणगाव एमआईडीसी की कंपनी में 132 किलो एमडी ड्रग्स बनाई थी। नायजेरियन नागरिक झुबी इफनेयी उडोको ने 132 में 122 किलो एमडी ड्रग्स बेचने में आरोपियों की मदद की है। उसके खिलाफ चाकण पुलिस में फर्जी पासपोर्ट और वीजा के इस्तेमाल को लेकर अलग से मामला दर्ज किया गया है। इस पूरे मामले में मुख्य सूत्रधार रहे राकेश उर्फ रॉकी खानीवडेकर अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की गैंग से जुड़ा हुआ है।

भेष बदलकर पुलिस ने गुजरात, मुंबई में डाला डेरा

इस मामले में 20 करोड़ 90 लाख रुपए की एमडी ड्रग्स और ड्रग्स बिक्री से मिली 85 लाख रुपए की नकदी एवं 75 लाख रुपए की पालघर में ड्रग्स बनाने की फैक्ट्री शुरू करने के लिए खरीदी गई दो एकड़ जमीन के कागजात जब्त किए हैं। तीनों कंपनियां और फार्म हाउस सील करने के साथ ही सभी आरोपियों के बैंक एकाउंट फ्रिज किये गए हैं। दो चरणों मे 14 आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद तीसरे चरण के 6 आरोपियों में से परशुराम जोगल, मंदार भोसले, राम गुरबाणी को मुंबई और मनोज पालांडे, अरविंद कुमार और अफजल अब्बास को गुजरात के बड़ोदरा से पकड़ा गया। इसके लिए पुलिस टीम कई दिनों तक भेष बदलकर मुंबई और गुजरात में जमी रही।

इस पूरी कार्रवाई को क्राइम ब्रांच के नशीले पदार्थ विरोधी दस्ते के पुलिस निरीक्षक श्रीराम पोल, हिंजवडी पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक बालकृष्ण सावंत, क्राइम ब्रांच के सहायक पुलिस निरीक्षक राम गोमारे, प्रशांत महाले, सागर पानमंद, अंबरीश देशमुख, उपनिरीक्षक  गिरीष चामले, अंमलदार दत्तात्रय बनसुडे, मयुर वाडकर, स्वामिनाथ जाधव, सुनिल कानगुडे, सावन राठोड, निशांत काले, अशिष बोटके, शकुर तांबोली, संदिप पाटिल, अतुल लोखंडे, नागेश माली, विठठल सानप, शैलेश मगर, अशोक गारगोटे, प्रदिप गुट्ठे की टीमों ने अंजाम दिया।