महापालिका भवन में शुरू करें ओपीडी

  • कांग्रेस गुटनेता आबा बागुल की कमिश्नर से मांग

पुणे. महापालिका भवन में हजारों कर्मचारी और कई वरिष्ठ नागरिक विभिन्न कार्यों के लिए हर दिन आते हैं. वर्तमान तनावपूर्ण जीवन में, लोगों में विभिन्न रोग पाए जाते हैं. अचानक चक्कर आना, कम बीपी और हाई ब्लड शुगर जैसी बीमारी मुख्य भवन में कर्मियों, अधिकारी या नागरिक को हो जाने से उन्हें तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है. 

अचानक दिल के दौरे की संख्या में वृद्धि भी हो रही है. अतएव महापालिका भवन में ओपीडी शुरू करना आवश्यक है. ऐसी मांग कांग्रेस गुटनेता आबा बागुल ने महापालिका कमिश्नर विक्रम कुमार से की है.

तत्काल उपचार जरूरी

बागुल के अनुसार, प्रशासन ने हाल ही में इस तथ्य का अनुभव किया है कि तीव्र दर्द होने पर कोई दवा उपलब्ध नहीं है. ऐसे समय में, महापालिका के परिसर में एक अस्पताल होना बहुत महत्वपूर्ण है. साथ ही परिसर में आपातकालीन सेवा आपातकाल (ओपीडी) शुरू किया जाना चाहिए.  इसमें चिकित्सा अधिकारी, नर्स और आवश्यक कर्मचारी नियुक्त किए जाने चाहिए. आवश्यक दवाएं और साथ ही आवश्यक मशीनरी इस जगह पर उपलब्ध कराई जानी चाहिए. ताकि यदि कोई कर्मी, अधिकारी या नागरिक जो अचानक आता है, उसे तत्काल उपचार की आवश्यकता हो, तो उसे उपचार मिल जाएगा. हालांकि, महापालिका के परिसर में आपातकालीन सेवा (ओपीडी) शुरू करने के लिए तत्काल कार्रवाई करने का  अनुरोध है. ऐसा बागुल ने कहा.

शुरू की हुई सेवा बंद की

इससे सम्बंधित सेवा शुरू करने का प्रस्ताव पिछले साल महिला और बाल कल्याण समिति ने मंजूर किया था. उसे आम सभा ने भी हरी झंडी दिखाई थी. फिर भी प्रशासन द्वारा इस पर अमल नहीं किया जा रहा था. हाल ही में इस पर अमल करना शुरू किया गया था. मनपा भवन में एक एम्बुलेंस भी रखी गई थी. लेकिन अब यह सेवा बंद हुई है. इस पर प्रशासन द्वारा ध्यान देना आवश्यक है.