Start vaccination campaign by private hospital in societies

    पुणे. बढ़ते कोरोना काल के दौरान नागरिकों की पुणे शहर (Pune City) में बड़े सोसायटियों (Societies) में टीकाकरण (Vaccination) करना जरूरी है। शहर में सोसायटियों की संख्या बहुत बड़ी है और साथ ही इन सोसायटियों में नागरिकों का टीकाकरण भी बाकी है।

    ऐसे सोसायटियों के क्लब-हाउस में सरकारी नियमों का पालन करते हुए टीकाकरण अभियान (Vaccination Campaign) चलाया जाए तो उसमें वरिष्ठ नागरिक, विकलांग नागरिक, गृहिणियां और मजदूर वर्ग बहुत फायदा होगा। ऐसी मांग भाजपा के नगरसेवक अमोल बालवडकर के साथ उमेश गायकवाड़, राजाभाऊ बराटे द्वारा महापालिका कमिश्नर से की गई है। 

    टीकाकरण में तेजी लाई जानी चाहिए

    कोरोना की लड़ाई में टीकाकरण ही सबसे बड़ा हथियार है, लेकिन इस टीकाकरण में तेजी आती हुई नहीं दिख रही है। केंद्र सरकार द्वारा बार-बार नियम बदले जा रहे हैं। जिसके चलते नागरिकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही देश में 18 उम्र से अधिक के सभी लोगों का टीकाकरण शुरू किया गया था, लेकिन पर्याप्त टीका ना होने के कारण सभी को टीका नहीं मिल पाई। सरकार ने फिर नियम में बदलाव किया। अब 18-44 उम्र के लोगों का टीकाकरण बंद किया गया है। बढ़ते कोरोना काल के दौरान नागरिकों की पुणे शहर में बड़े सोसायटियों में टीकाकरण करना जरूरी है। शहर में सोसायटियों की संख्या बहुत बड़ी है और साथ ही इन सोसायटियों में नागरिकों का टीकाकरण भी बाकी है।

    लोगों को होगा फायदा

    ऐसे सोसायटियों  के क्लब-हाउस में सरकारी नियमों का पालन करते हुए टीकाकरण अभियान चलाया जाए तो उस में वरिष्ठ नागरिक, विकलांग नागरिक, गृहिणियां और मजदूर वर्ग बहुत फायदा होगा। ऐसी मांग भाजपा के नगरसेवक अमोल बालवडकर के साथ उमेश गायकवाड़, राजाभाऊ बराटे द्वारा पुणे महानगरपालिका कमिश्नर से की गई है। साथ ही शहर में 18 से 44 साल के बच्चे चूंकि नागरिकों की संख्या भी अधिक है, इसलिए उनके टीकाकरण में तेजी लाई जानी चाहिए। ऐसा करेंगे तो निश्चित रूप से मदद मिलेगी। हालांकि, पुणे शहर में कोरोना को नियंत्रण में लाने की दृष्टि से शत-प्रतिशत टीकाकरण पूर्ण करने की दृष्टि से विभिन्न सोसायटियों में टीकाकरण अभियान चलाने की अनुमति क्षेत्र के विभिन्न संगठनों और निजी  अस्पतालों को दिया जाना चाहिए। साथ ही निजी अस्पतालों द्वारा दी जाने वाली वैक्सीन का रेट पुणे महानगरपालिका तय करें। ऐसी मांग अमोल बालवडकर ने महानगरपालिका कमिश्नर से की है। 

    बढ़ते कोरोना काल के दौरान नागरिकों की पुणे शहर में बड़े सोसायटियों में टीकाकरण करना जरूरी है। शहर में सोसायटियों की संख्या बहुत बड़ी है और साथ ही इन सोसायटियों में नागरिकों का टीकाकरण भी बाकी है। ऐसे सोसायटियों के क्लब-हाउस में सरकारी नियमों का पालन करते हुए टीकाकरण अभियान चलाया जाए तो उस में वरिष्ठ नागरिक, विकलांग नागरिक, गृहिणियां और मजदूर वर्ग बहुत फायदा होगा। लगभग 100% टीकाकरण हो सकता है।

    -अमोल बालवडकर, नगरसेवक, भाजपा