online

  • शुभचिंतक फाउंडेशन का आयोजन

पुणे. देश की प्रतिभाओं को एक सशक्त मंच देने और उभरती हुई प्रतिभाओं को प्रोत्साहन देने के लिए पुणे की प्रतिष्ठित संस्था शुभचिंतक फाउंडेशन की ओर से गत दिनों सहित्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. इस प्रतियोगिता में पूरे देश के विभिन्न शहरों के साहित्य प्रेमियों ने उत्साह से शिरकत की. प्रतियोगिता में बिजनोर उत्तर प्रदेश के प्रतिभागी वेदांश अग्रवाल ने प्रथम स्थान हासिल किया. इसके साथ ही पुणे के जैनम जैन ने द्वितीय और गया बिहार के लाब्धी को प्रदान किया गया.

विभिन्न उपक्रमों का आयोजन

शुभचिंतक फाउंडेशन की संस्थापक अध्यक्ष डॉ. नीलम जैन ने बताया कि फाउंडेशन की ओर से समय समय पर विभिन्न उपक्रम आयोजित किए जाते हैं. आपदा के समय भी फाउंडेशन की ओर से जरूरतमंदों को मदद जैसे उपक्रमों के माध्यम से शुभचिंतक फाउंडेशन ने राशन सहित सभी जीवनावश्यक वस्तुओं का वितरण किया है. इसके अलावा समय समय पर अनाथ बच्चों, बेसहारा बुजुर्गों, निम्न तबके के लोगों को भी मदद की जाती है.

उभरती प्रतिभाओं को मंच प्रदान करने का प्रयास

शुभचिंतक फाउंडेशन की डॉ. ममत जैन ने बताया कि देश में हिन्दी के प्रचार प्रसार के लिए और देश की प्रतिभाओं को उभारने के लिए, उन्हें एक सशक्त मंच देने के लिए शुभचिंतक फाउंडेशन की ओर से एक मंच प्रदान किया जाता है, जिससे इन हिन्दी प्रेमियों को राष्ट्रीय स्तर पर एक नई पहचान मिलती है.

206 प्रतिभागियों ने की शिरकत

शुभचिंतक फाउंडेशन के ही अक्षय जैन ने बताया कि कोरोना के इस संकट काल का सदुपयोग करते हुए हमने ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया, जिसमें हिन्दी के लिए समर्पित साहित्यकारों से कहानी, संस्मरण, लेख, कविता आमंत्रित की गई थी. इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रविष्ठियां मंगाई गई थी. हमें देश के 12 राज्यों से लगभग 249 प्रविष्ठियां प्राप्त हुई, जिसमें से 43 प्रविष्ठियां नियमानुसार न होने के कारण हमें उन्हें रद्द करना पड़ा. शेष 206 प्रतिभागियों ने अपनी उत्कृष्ठ रचानाएं हमें भेजी, जिसके आधार पर फाउंडेशन के जज पैनल ने प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया.

इसके अनुसार बिजनोर उत्तर प्रदेश के वेदांश अग्रवाल को प्रथम, पुणे महाराष्ट्र के जैनम जैन को द्वितीय तथा गया बिहार के लाब्धी को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया. इसके अलावा जिनकी रचनाएं भी चयनकर्ताओं को पसंद आई, उन्हें उत्तेजनार्थ पुरस्कार देकर उन्हें प्रोत्साहित किया गया. उत्तेजनार्थ पुरस्कार प्राप्त करनेवालों में बारण राजस्थान की दृष्टि सारावगी, सहारनपुर उत्तर प्रदेश की साची गर्ग, उत्तर प्रदेश बिजनोर की राफिया खानम, मध्यप्रदेश इंदौर के मास्टर अलाप, महाराष्ट्र पुणे के मास्टर अर्णव सौरभ, कोलकाता की विदिशा जोशी, महाराष्ट्र पुणे की रिजुल सुनय शाह शामिल हैं.इन सभी पुरस्कार विजेताओं को उनके द्वारा अर्जित पुरस्कार प्रेषित कर दिए गए है.