रिटायर्ड कर्मियों को वेतन दिया तो खैर नहीं

  • मनपा अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल का सख्त कार्रवाई की हिदायत
  • 6 माह से दिया जा रहा था वेतन
  • ऐसे कर्मियों की रिपोर्ट 1 माह में पूरी करने के निर्देश
  • शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जानबूझकर ध्यान नहीं दिया

पुणे. महापालिका में कई तरह के कारनामे हमेशा होते रहते हैं. जिसके चलते मनपा की हमेशा आलोचना होती रहती है. अब तो मनपा ने हद ही कर दी. हाल ही में शिक्षा विभाग से रिटायर हुए करीब 19 कर्मियों को मार्च-अप्रैल माह से ही वेतन अदा किया जा रहा है. माना जा रहा है कि इस पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जानबूझकर ध्यान नहीं दिया. इसे मनपा अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल ने गंभीरता से लिया है. 

इस तरह से वेतन अदा करनेवाले विभाग प्रमुख व कर्मियों पर कार्रवाई करने का इशारा अतिरिक्त आयुक्त द्वारा दिया गया है. साथ ही आगामी काल में सेवानिवृत्त होनेवाले कर्मियों की रिपोर्ट 1 माह में पूरी करने के निर्देश भी अग्रवाल द्वारा दिए गए हैं.

स्थायी समिति में उठी थी आवाज

ज्ञात हो कि रिटायर हुए कर्मियों को भी मनपा द्वारा वेतन दिया जा रहा था. इस पर स्थायी समिति में नगरसेवक महेंद्र पठारे ने सवाल उठाया कि वेतन अदा करने को लेकर सॉफ्टवेयर बनाए गए हैं. इसके माध्यम से वेतन दिया जाता है. किसी भी कर्मी के रिटायर होने के बाद तत्काल उसका वेतन देना बंद करना चाहिए. सिस्टम में ऐसा प्रावधान है. इतनी सभी यंत्रणाएं होने के बावजूद भी प्रशासन द्वारा विगत 6 माह से करीब 19 कर्मियों को वेतन दिया जा रहा था. यानी प्रशासन का कामकाज सही तरीके से नहीं चल रहा है, ऐसी बातें सामने आ रही हैं. सम्बंधित लोगों की जांच करना जरुरी है. ऐसी मांग पठारे ने की थी.

विभाग प्रमुख को माना जाएगा जिम्मेदार

इस पर मनपा अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल ने गंभीरता से ध्यान दिया है. इस तरह से वेतन अदा करनेवाले विभाग व कर्मियों पर कार्रवाई करने का इशारा अतिरिक्त आयुक्त द्वारा दिया गया है. साथ ही वेतन प्रणाली में जो खामियां हैं, उसे ठीक करने के निर्देश दिए गए हैं. अतिरिक्त आयुक्त के निर्देशानुसार संगणक प्रणाली को दुरुस्त करने के बाद ही वेतन पत्रक तैयार करें. सभी कर्मियों की उचित जानकारी उससे पहले लेनी चाहिए. यह करते समय कर्मियों की उपस्थिति पर भी ध्यान देने के लिए कहा गया है. लेकिन किसी भी हाल में सेवानिवृत्त कर्मियों को वेतन अदा ना करें. ऐसे निर्देश अतिरिक्त आयुक्त द्वारा दिए गए हैं. इस पर सभी विभाग व विभाग प्रमुखों को अमल करना होगा. साथ ही आगामी काल में सेवानिवृत्त होनेवाले कर्मियों की रिपोर्ट 1 माह में पूरी करने के निर्देश भी अग्रवाल द्वारा दिए गए हैं. इससे अगर मनपा का कोई नुकसान हुआ तो उसकी जिम्मेदारी विभाग प्रमुख पर तय की जाएगी.