पड़ोसी से कैसे बनाएं अच्छा रिलेशनशिप?

-सीमा कुमारी

आज हम बात करेंगे आस-पास के पड़ोसी से कैसे रिलेशनशिप अच्छा बनाए? सबसे पहले बात करते हैं रिलेशनशिप क्या होता है? जब भी हम लोग रिलेशनशिप की बात करते हैं तो सबसे पहले बॉय फ्रेंड (BF) और गर्ल फ्रेंड (GF) की बात मन में आ जाती है लेकिन ऐसा नहीं है की रिलेशनशिप का मतलब बॉय फ्रेंड और गर्ल फ्रेंड ही हो इसके अलावा बहुत सारे रिलेशनशिप होते हैं. आज बात करेंगे पड़ोसी से रिलेशन के बारे में. एक ऐसा रिलेशन जिसमें दो लोग सिर्फ भावनाओं से एक दूसरे से जुड़े रहते हैं. जिस पर कोई सामाजिक मोहर या नाम नही होता. समाज में पड़ोसी का होना बहुत ही मायने रखता है क्योंकि हर छोटी-बड़ी जरूरत में पड़ोसी ही है जो आपके काम आ सकता है. आज कल तो  ज्यादातर लोग अपने पड़ोसी को पसंद नहीं करते और एक दूसरे से जलते है. लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर आपके घर में किसी भी प्रकार का सुख-दुःख होता है तो सबसे पहले पड़ोसी ही है जो आपकी मदद करेंगे. इसलिए अपने पड़ोसी से मिल-जूल कर रहें |

ऐसे बनाये पड़ोसी के साथ अच्छा रिलेशन :-

  • अपने पड़ोसी के साथ हमेशा अच्छे व्यवहार करें. क्योंकि जीवन के लिए शांति बहुत जरूरी है. शांति का एक पक्ष पड़ोसियों से बेहतर तालमेल के जरिये पाया जा सकता है. आप के अच्छे व्यवहार से आप के पड़ोसी सदैव आप के बन सकते हैं |
  • दुनिया में कोई भी परफेक्ट नहीं होता. आप भी नहीं, वो भी नहीं. ऐसे में छोटी-छोटी ग़लतियों को नज़रअंदाज़ करने में ही बुद्धिमानी होती है. यह मान के चलिए कि वह भी आपकी ग़लतियों को नज़रअंदाज़ करती हैं. इस तरह से थोड़ा समझोता करें |
  • कभी भी अपने पड़ोस में रहने वाले इंसान की बुराई न करें. कोशिश करें की उनसे मधुर रिश्ते बने रहें. क्योंकि पड़ोस में रहने वालो से सबसे बड़ी दरार की वजह है बुराई. इसी के चलते हम अपना रिश्ता पड़ोसी से खराब कर लेते हैं. अक्सर किसी दूसरे से अपने पड़ोसी की बुराई और उनके बारे में गलत बोलने से हम उनसे अपने रिश्ते खराब कर लेते है |
  • अगर घर में किसी भी तरह का जैसे शादी,बर्थडे, शादी का साल गिरा,पूजा त्यौहार आदि का पार्टी करने वाले हैं, तो पहले ही अपने पड़ोसियों को इस बारे में बता दें अन्यथा पार्टी के दौरान आप के पड़ोसी मूड खराब कर सकते हैं. पहले बताने से पड़ोसी शोर-शराबा होने पर ऐडजस्ट करने की कोशिश करेंगे |
  • सरलता से अपने पड़ोसियों से पूछें कि कहीं उन्हें आप की वजह से कोई दिक्कत तो नहीं हो रही. यह जान कर झगड़े की जड़ को ही ख़त्म कर सकते हैं |

 याद रखें :-

“दुश्मनी लाख सही ख़त्म न कीजिये रिश्ता

दिल मिले या न मिले हाथ मिलाते रहिए”