जानिए लिव इन रिलेशनशिप में रहने के फायदे और नुकसान

सीमा कुमारी

लिव इन रिलेशनशिप में ज़िंदगी भर रहें. मगर, किसी रिश्ते को लंबे समय तक टिकाने के लिए उसके नियम-कानून और कुछ व्यवहारिक बातों को जानने के लिए कम से कम 3-5 मिनट देना चाहिए . लिव इन रिलेशनशिप में रहने के लिए आपका एक्साइटमेंट समझ सकते हैं. आपका लिव इन में रहने का फैसला कितना सही या गलत हो सकता है ये तो कोई नहीं बता सकेगा. अगर कोई केवल मौज-मस्ती के हिसाब से लिव इन रिलेशनशिप का चयन कर रहा है तो उनको संभलने की ज़रुरत है |
आप भले ही लिव इन रिलेशनशिप में रहने के लिए शादी नहीं करते लेकिन, इसका मतलब यह नहीं कि आप जब दिल किया रह लिए और निकल पड़े. अब आपको लिव इन रिलेशनशिप के फायदे और नुकसान के बारे में जान लेना चाहिए |

*क्या हैं लिव इन रिलेशन के फायदे ? :-

  • शादी से पहले साथ में रहने से दोनों साथी एक-दूसरे के रिश्ते को बहुत अच्छे से समझ सकते हैं। ऐसे आप दोनों पार्टनर एक-दूसरे के बेहद करीब आ सकते हैं। दोनों को एक दूसरे की अच्छी और बुरी आदतों के बारे में जानकारी होती है |
  • अगर लिव इन के दौरान दोनों को लगता है कि उनके साथ उनका भविष्य नहीं चल सकता है, तो बिना किसी झगड़े के ब्रेकअप करके एक-दूसरे से अलग हुआ जा सकता है। इसमें उन्हें किसी तरह की कानूनी लड़ाई लड़ने की जरूरत नहीं होती है |
  • पार्टनर्स द्वारा लिया गया लिव इन रिलेशन में रहने का फैसला कई तरह से अच्छा साबित होता है |इससे दोनों को उन बातों के बारे में मालूम होता है जिस पर उन्हें काम करने की जरूरत होती है |
  • लिव इन रिलेशन में रहने पर अधिकतर कपल धोखा और बेवफाई जैसी चीजों से बेफिक्र रहते हैं |
  • इस दौरान, दोनों की साथी पूरी जिम्मेदारियों के साथ अपना-अपना रिश्ता निभा सकते हैं |
  • लोग शादी के बंधन व कमिटमेंट को हैंडल नहीं कर पाते उनके लिए भी लिव इन में रहना एक बेहतर विकल्प है |

*क्या हैं लिव इन रिलेशन के नुकसान ?

हालांकि, जहां लिव इन रिलेशन में रहने के फायदे हैं, वहीं इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं |

  • लिव इन रिलेशनशिप का यह मतलब नहीं होता कि कपल्स अपने इस रिश्ते को शादी का अंजाम देंगे|
  • हो सकता है कि अगर लिव इन का रिश्ता सुनहरा न हो। आपके मन में नए रिश्ते के लिए भी डर लगने लग सकता है |
  • दोनों में से किसी एक साथी को अक्सर टूटे दिल का दर्द सहना पड़ सकता है |
  • कई बार एक दूसरे के वर्क स्टाइल या कल्चर को न समझ पाने के कारण भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है |
  • लिव इन रिलेशन में अगर रिश्ता वर्क नहीं करता तो इसमें महिलाएं सबसे ज्यादा दुख झेलती हैं. उन्हें जैविक, समाजिक और भावनात्मक रूप से परेशानियों का सामना करना होता है |
  • पार्टनर कब आपको छोड़ दे, इस तरह का डर हमेशा बना रहता है |