अपने बच्चे से बनाकर अच्छा रिलेशन, सिखाएं उसे स्वस्थ आदतें

-सीमा कुमारी

हर परिवार के बच्चे को आज की समय के अनुसार ऐसे  कुछ  तरह से जिंदगी जीना चाहिए. क्यों की आज धूल-मिट्टी तरह-तरह की प्रदूषण कई तरह की बुखार जिसे पहचानना भी आज बहुत मुश्किल हो जाता है. ऐसे में बच्चों को हेल्दी जिंदगी जीने को प्रेरित करना चाहिए. अक्सर बच्चे घर में किसी न किसी के  प्यार-दुलार के चक्कर में बच्चों को गलत तोर तरीको के कारण गलत खानपान के चक्कर में आज बच्चों में 90 % बीमारी का कारण है. अपने बच्चों में अगर आप कुछ अच्छा अपनाने के लिए प्रेरित करते हैं, तो न सिर्फ बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास बेहतर होता है, बल्कि बच्चे जीवनभर सेहतमंद, स्वस्थ और बीमारी-मुक्त रहते हैं. बच्चों में डालिये ये कुछ सबसे जरूरी आदतें.

सुबह का नाश्ता कभी न छोड़े न मात्रा काम करे ;-
नास्ता मानो तो शरीर का सबसे पहला ऊर्जा का स्त्रोत माना जाता है. इसलिए कभी भी किसी को सुबह का नाश्ता  नहीं छोड़ना चाहिए. बच्चों को सिखाएं कि सुबह उठते ही फ्रेश होने के बाद हमेशा हेल्दी और न्यूट्रीशियस नाश्ता करना चाहिए. नाश्ते में कभी भी फास्ट फूड्स, जंक फूड्स का सेवन नहीं करना चाहिए. हमेशा अपने परिवारों को घर में बना ही नाश्ता करना एक अच्छी बात है. आपके बच्चे का शरीर स्वस्थ रहेगा, क्योंकि सुबह का नाश्ता छोड़ने से शरीर पर कई दुष्प्रभाव दिखते हैं. और दूसरा फायदा यह है कि इससे बच्चे के जीवन में एक रूटीन शामिल होगा. सुबह उठना, फ्रेश होना, ब्रश करना, नहाना और नाश्ता करना इसके बाद दूसरे काम.

बच्चों में खेलने की आदत डालें :-
अब बच्चों को दादी-नानी के साथ गार्डन में खेलना नहीं पसंद आता है. आजकल बच्चे मोबाइल, गेम, कंप्यूटर, मूवीज आदि की लत के कारण घर से बाहर जाकर खेलना नहीं पसंद करते हैं, जबकि बाहर जाकर खेलना, कूदना, उछलना, टहलना बच्चों की सेहत के लिए बहुत जरूरी है. बच्चे आमतौर पर एक्सरसाइज, योग नहीं करते हैं, इसलिए आउटडोर गेम्स ही उनके लिए एक्सरसाइज की तरह हैं.

बच्चों में अच्छी आदत डालें ;-
हमेशा नाइट शूट पहनकर सोने की आदत डालें, ताकि आरामदायक कपड़ों में उन्हें चैन की नींद आ सके. उन्हें रात को ब्रश कर के और हाथ-पैरों को अच्छी तरह धोने के बाद ही बिस्तर पर जाने के लिए कहें. गर्मियों में उन्हें रात को भी नहलाकर सुलाएं रात में सोने से पहले यूरीन पास करने की आदत डालें ताकि उनकी नींद डिसटर्ब न हो.

बच्चों को परिवारों के साथ ही खाना खिलाये :-
जो बच्चे पूरे परिवार के साथ बैठकर खाना खाते हैं, वो हेल्दी चीजें आसानी से खा लेते हैं और वो हेल्दी होते है कारण परिवारों के साथ होने से आपको तरह-तरह का वेंजेन पकवान घर का ही मिलता है. जो खाने में स्वादिस्ट होता है पर बच्चे अकेले हो तो आपने भी देखा होगा कि बच्चों का मन बाजार की पैकेट बंद चीजों, प्रॉसेस्ड फूड्स और जंक फूड्स के लिए मनचल रहता है. इस आदत को बदलने के लिए जरूरी है कि बच्चे घर का खाना खाएं और सबके साथ बैठकर खाएं.

बच्चों को टाइम से जरूर सुलाए और जगाये :-
बच्चों को  जल्दी सोना चाहिए और सुबह जल्दी उठना चाहिए ,बच्चों के लिए रात में कम से कम 9-10 घंटे की नींद बहुत जरूरी है. इसलिए रात में 10 बजे से पहले सोने चले जाना चाहिए और सुबह 5-6  बजे तक उठ जाना चाहिए. उनके लिए अच्छा होता है क्योंकि ये आगे चलकर बहुत खतरनाक समस्या खरा कर सकता है आपके जिंदगी में.