‘ब्लू सिटी’ का प्रसिद्ध मारवाड़ महोत्सव

राजस्थान भव्यता और वीरता का राज्य है। यह राज्य अपनी संस्कृति का अच्छी तरह पालन करने और त्यौहारों को धूमधाम से मानाने के लिए जाना जाता है। अपने बड़े बड़े महलों और खूबसूरत शहर के लिए यह राज्य दुनियाभर में प्रसिद्ध है। राजस्थान के कोई न कोई कोने में हर बार कोई न कोई उत्सव हमेशा मनाया जाता है। यह राज्य सांस्कृतिक जीवंतता और रंगीन असाधारणता से भरा हुआ है। 

वहीं राजस्थान के जोधपुर में मारवाड़ महोत्सव काफी प्रसिद्ध है। यह उत्सव राजपूताना गर्व और उनकी महानता का एक प्रमाण है।जोधपुर राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा शहर है जो थार रेगिस्तान में पड़ा है। लोकप्रिय रूप से ‘ब्लू सिटी’ के रूप में जाना जाता है। राजस्थानी कार्यक्रम का सबसे अच्छा हिस्सा स्थानीय लोगों का गर्मजोशी भरा आतिथ्य है जो आपको अपना मानते हैं और आपको सभी समारोहों और अनुष्ठानों में शामिल करते हैं। मारवाड़ उत्सव की रौनक देखने योग्य होती है। यह दो दिवसीय उत्सव होता है, जो इस साल 12 अक्टूबर और 13 अक्टूबर को है। तो आइए जानते हैं मारवाड़ में होने वाले कार्यक्रमों के बारे में…

डांडी गैर-

डांडी गैर एक लोकप्रिय समूह नृत्य है जो लाठी के साथ किया जाता है। इस दौरान महिलाएं सुंदर चमकीले लहंगे पहनती है,जबकि पुरुषों को लाल अंगरखे और भगवा रंग की पगड़ी में देखा जाता है। पुरुष और महिला दोनों परिपत्र गति में आगे बढ़ते हैं और उनके रंगीन कपड़े एक सुंदर पैटर्न बनाते हैं। यह मारवाड़ उत्सव का एक प्रमुख आकर्षण है। 

कालबेलिया-

आपने कालबेलिया नर्तकियों को पहले रेगिस्तान में प्रदर्शन करते देखा होगा। कालबेलिया स्थानीय सांप-छछूंदर समुदाय है। महिलाएं गोटा पट्टी के साथ सजी-धजी पोशाक पहनती हैं, साथ में अन्य शानदार पोशाकें भी पहनती हैं और सांप की चाल का अनुकरण करती हैं, जबकि पुरुष पृष्ठभूमि में स्थानीय वाद्य यंत्र बजाते हैं। यह बेहद ही शानदार और देखने योग्य प्रदर्शन होता है। 

भवई-

भवई एक ऐसा नृत्य है जिसमें राजस्थानी महिलाएं अपने सिर पर पीतल के बर्तनों और मिट्टी के बर्तनों को संतुलित करते हुए नृत्य करती हैं। यह कार्यक्रम भी इस उत्सव की रौनक बढ़ता है। इसे देखने लोग दूर दूर से आते हैं।