दीपावली की पूजा बिना इन चीज़ों के मानी जाती है अधूरी, अनिवार्य है इन चीज़ों का होना

आज यानी 14 नवंबर को दीपावली का महापर्व देशभर में मनाया जा रहा है। इस दिन माँ लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है। दिवाली कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन मनाई जाती है। इस दिन दान, हवन, पूजन भी किए जाते हैं, जिसका फल शीघ्र ही मिलता है। तो चलिए आज आपको बताएं दीपावली पर लक्ष्मी पूजा करते समय कौन सी चीजें अनिवार्य रूप से रखनी चाहिए… 

महालक्ष्मी की तस्वीर-
दिवाली की पूजा माँ लक्ष्मी के फोटो के बिना अधूरी होती है। इसलिए इस दिन माँ लक्ष्मी की ऐसी फोटो खरीदें, जिसमें वे भगवान विष्णु के चरणों के पास बैठी हों। इस तस्वीर की पूजा करना बहुत शुभ माना गया है।

चरण चिह्न-
दीपावली के दिन माँ लक्ष्मी के चांदी से चरण चिह्न खरीदना चाहिए। इसे लक्ष्मी पूजा में रखें और इसके बाद घर की तिजोरी में रखना चाहिए। ऐसा करने से पुण्य मिलता है। 

श्रीयंत्र-
दिवाली की पूजा के समय श्रीयंत्र को रखना न भूलें। यह देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। इसे घर के मंदिर में स्थापित करना चाहिए।

कुबेर मूर्ति-
धन के देवता कुबेर जी की पूजा दिवाली के दिन ज़रूर करनी चाहिए। ध्यान रहें, पूजा करते समय कुबेर जी की प्रतिमा घर की उत्तर दिशा में रखनी चाहिए। 

दक्षिणावर्ती शंख-
विष्णुजी और महालक्ष्मी की पूजा में दक्षिणावर्ती शंख का महत्व काफी अधिक है। दीपावली पर शंख खरीदें और इस शंख में केसर मिश्रित दूध भरकर विष्णु-लक्ष्मी का अभिषेक करें।

मोती शंख-
मोती शंख एक दुर्लभ शंख है, जो दिखने में बहुत ही सुंदर होता है। दीपावली पर मोती शंख खरीदें और पूजा के बाद इसे अपनी तिजोरी में रख दें। ऐसा करने से घर में लक्ष्मी का वास होता है। 

पारे से बनी लक्ष्मी प्रतिमा-
दिवाली पर लक्ष्मी पूजा के लिए पारे से बनी लक्ष्मी प्रतिमा बहुत शुभ मानी गई है। दीपावली पर पारद लक्ष्मी की मूर्ति खरीदनी चाहिए।

कमल गट्टा-
देवी लक्ष्मी की पूजा में कमल का फूल रखना अनिवार्य होता है। कमल के पौधे से कमल गट्टा भी मिलता है। कमल गट्टे से बनी माला से लक्ष्मी मंत्र का जाप करना चाहिए। दीपावली पर कमल गट्टे की माला भी खरीद सकते हैं।

पीली कौड़ी-
लक्ष्मीजी समुद्र से प्रकट हुई थीं और कौड़ी भी समुद्र से ही मिलती है। इसी वजह से लक्ष्मी पूजा में पीली कौड़ियां रखने की परंपरा पुराने समय से चली आ रही है।

लघु नारियल-
लघु नारियल आम नारियल से थोड़ा छोटा होता है। इसलिए इसे लघु नारियल कहा जाता है। दीपावली की पूजा के समय इस नारियल की भी पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद लाल कपड़े में बांधकर इसे तिजोरी में रख सकते हैं।