कहने को सिर्फ योगी के नेतृत्व की बात की जा रही, UP चुनाव और ‘बड़ों’ के कार्यक्रम

    कुछ माह बाद होनेवाले उत्तरप्रदेश के विधानसभा चुनाव को हर हालत में जीतने के लिए बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व अभी से एड़ी-चोटी का जोर लगा रहा है. प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कभी भी सब कुछ राज्य के नेताओं के भरोसे नहीं छोड़ते, बल्कि प्रत्यक्ष रूप से अपनी भूमिका निभाने आगे आते हैं. बंगाल के विधानसभा चुनाव में भी ममता बनर्जी से मुकाबले के लिए बीजेपी की ओर से मोदी, शाह और जेपी नड्डा ने कोई कसर बाकी नहीं रखी थी. 

    उन्होंने दिल्ली से बंगाल पहुंचकर कई रैलियां की थीं. यह बात अलग है कि ममता के सामने बीजेपी की दाल नहीं गली लेकिन फिर भी बीजेपी की विधानसभा सीटों में इजाफा अवश्य हुआ. इससे सबक लेते हुए बीजेपी के शीर्ष नेता अभी से सक्रिय हो उठे हैं. वहां पार्टी का आधार मजबूत करने का हर स्तर पर पूरा प्रयास हो रहा है.

    यद्यपि यूपी में योगी आदित्यनाथ की अच्छी व प्रभावशाली पकड़ है. उन्होंने अपराध और भ्रष्टाचार नियंत्रण में काफी सफलता पाई है. विधानसभा में बीजेपी का भारी बहुमत भी है. इतने पर भी बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व कोई जोखिम नहीं उठाना चाहता. 

    वह केवल योगी व उनके मंत्रियों के भरोसे चुनाव की जिम्मेदारी नहीं छोड़ेगा. कहने को तो सिर्फ योगी के नेतृत्व में यूपी विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा लेकिन असली भूमिका पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व अदा करेगा. खास तौर पर मोदी व अमित शाह अधिक सक्रियता दिखाएंगे. मोदी अभी से योगी सरकार की उपलब्धियों की प्रशंसा में जुट गए हैं. यह भी एक तरह से बीजेपी चुनावी प्रचार की बुनियाद ही है.

    राष्ट्रपति, पीएम, केंद्रीय मंत्रियों व बीजेपी अध्यक्ष के दौरे

    हाल के समय में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का 2 बार यूपी दौरा हो गया. वे अपने पुरखों का गांव देखने गए थे. प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्रीगण और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के दौरे भी जारी हैं. पहले के समान बीजेपी बूथ स्तर से चुनाव की तैयारी करने में जुटी है. राम मंदिर निर्माण तथा अयोध्या को भव्यतम रूप देने का भावनाप्रधान मुद्दा फिर चुनाव में हावी रहेगा. प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सराहना करते हुए लखनऊ में कहा कि उनके राज में ईमानदारी और सुशासन दिख रहा है. 

    डबल इंजन की सरकार के चलते उत्तरप्रदेश देश ही नहीं, बल्कि दुनिया भर के छोटे-बड़े निवेशकों का पसंदीदा स्थान बन गया है. पीएम ने केंद्र और राज्य दोनों में बीजेपी की सरकार होने की महत्ता जताते हुए कहा कि यूपी डबल इंजन के डबल लाभ की बहुत बड़ी मिसाल बन गया है. प्रदेश के लोग भूल नहीं सकते कि पहले यहां किस तरह घोटाले होते थे और किस तरह राजकाज को भ्रष्टाचारियों के हवाले कर दिया गया था. अब योगी सरकार पूरी ईमानदारी से यूपी के विकास में जुड़ी हुई है. पहले यहां का शासन-प्रशासन माफियाओं और गुंडों की मनमानी से चलता था लेकिन अब वसूली करने वाले और माफिया राज चलाने वाले सलाखों के पीछे हैं.

    उत्तरप्रदेश को महत्व देना बेहद जरूरी

    यूपी विधानसभा चुनाव के कुछ समय बाद राष्ट्रपति चुनाव होगा. इसके लिए जरूरी है कि यूपी विधानसभा में बीजेपी का भारी बहुमत कायम रहे. वहां के विधायकों का मत मूल्य अधिक होने से उसका फायदा राष्ट्रपति चुनाव में होगा. इसके साथ ही 2024 के आम चुनाव पर भी बीजेपी की नजर है. यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से 50 भी जिसने जीत ली, वह पीएम पद का दावेदार बन जाता है. प्रधानमंत्री मोदी खुद भी यूपी के वाराणसी क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करते हैं. इसीलिए वे गिना रहे हैं कि केंद्र ने किसानों के हित में कैसे फैसले लिए.